टीम इंडिया © IANS
टीम इंडिया © IANS

साल 2017 के सबसे बड़े टूर्नामेंट चैंपियंस ट्रॉफी को खत्म होने में सिर्फ तीन मैच और बचे हैं। इस दौरान चार टीमों की आईसीसी वनडे रैंकिंग दाव पर होगी। मौजूदा समय में दक्षिण अफ्रीका और ऑस्ट्रेलिया वनडे रैंकिंग में शीर्ष पर काबिज दो टीमें हैं। लेकिन ये दोनों ही टीमें चैंपियंस ट्रॉफी के सेमीफाइनल में जगह बनाने में कामयाब नहीं हो पाईं। ऐसे में टीम इंडिया जो अभी रैंकिंग में तीसरे नंबर पर है उसके पास नंबर 1 टीम बनने का सुनहरा मौका है। भारत के बाद चौथे नंबर पर इंग्लैंड काबिज है।

ऐसे में अगर टीम इंडिया 15 जून को होने वाले सेमीफाइनल में बांग्लादेश के खिलाफ हार जाती है तो इंग्लैंड के पास फाइनल जीतते हुए नंबर 3 पर काबिज होने का अच्छा मौका होगा। वहीं, अगर टीम इंडिया बांग्लादेश को हरा देती है और फाइनल में इंग्लैंड पर भी जीत दर्ज कर लेती है तो वह वनडे की नंबर 1 टीम बन जाएगी। लेकिन अगर फाइनल में भारत और नंबर 8 पर काबिज पाकिस्तान के बीच मुकाबला होता है और टीम इंडिया जीत जाती है तो टीम इंडिया दूसरे नंबर पर पहुंचेगी।  [ये भी पढ़ें: पाकिस्तान बनाम इंग्लैंड, लाइव ब्लॉग: पाकिस्तान ने टॉस जीता, पहले गेंदबाजी का फैसला]

टीम इंडिया के हारने या जीतने पर चीजें कैसे बदल सकती हैं? आइए जानते हैं।

– अगर बांग्लादेश से टीम इंडिया सेमीफाइनल में हार जाती है तो उसके अंक 115 हो जाएंगे।

– अगर पाकिस्तान को टीम इंडिया फाइनल में हराती है तो उसके अंक 119 हो जाएंगे।

– अगर पाकिस्तान से फाइनल में टीम इंडिया हार जाती है तो उसके कुल अंक 116 हो जाएंगे।

– अगर टीम इंडिया इंग्लैंड को हरा देती है तो वह टेबल में टॉप टीम बन जाएंगी।

– वहीं अगर टीम इंडिया इंग्लैंड के हाथों फाइनल में हार जाती है तो उसके 116 अंक रह जाएंगे।