India vs Australia: Team India eyeing victory at adelaide
India vs Australia

भारत और ऑस्ट्रेलिया की क्रिकेट टीमों के बीच चार मैचों की सीरीज गुरुवार एडिलेड टेस्‍ट के साथ शुरू हो जाएगी। जिसमें न सिर्फ भारत की साख दांव पर है बल्कि ऑस्ट्रेलिया के लिए भी ये सीरीज घर में अपने वर्चस्व को बचाए रखने की लड़ाई जैसी है। दोनों टीमों के लिए यह सीरीज इसलिए खास है क्योंकि भारत ने अपने पिछले दोनों विदेशी दौरों पर इंग्लैंड और दक्षिण अफ्रीका में मात खाई है जबकि बॉल टैंपरिंग विवाद के बाद ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेट एक बड़े बदलाव से जूझ रहा है। ऐसे में इस सीरीज में दोनों टीमों का बहुत कुछ दांव पर लगा हुआ है।

मेजबान टीम की मौजूदा स्थिति को देखकर भारत इस सीरीज का प्रबल दावेदार माना जा रहा, लेकिन घर में ऑस्ट्रेलिया को किसी भी सूरत में हल्के में नहीं लिया जा सकता। खुद उपकप्तान अजिंक्य रहाणे कह चुके हैं कि ऑस्ट्रेलिया को उसके घर में हल्के में नहीं लिया जा सकता, अब अगर भारत यह टेस्ट सीरीज भी गंवा देता है तो उसकी बादशाहत पर बड़ा संदेह पैदा होगा।

टीम के कोच रवि शास्त्री कई बार इस बात को दोहरा चुके हैं कि मौजूदा भारतीय टीम बीते 15-20 वर्षो में विदेशी जमीं पर खेलने वाली सर्वश्रेष्ठ टीम है। कोच की बात को हालांकि आंकड़े काट देते हैं क्योंकि अगर श्रीलंका और वेस्टइंडीज जैसी कमजोर टीमों को छोड़ दिया जाए तो भारत दक्षिण अफ्रीका और इंग्लैंड जैसे दो अहम दौरों पर पूरी तरह से विफल रहा है।

इस लिहाज से कप्तान विराट कोहली की टीम के लिए यह सीरीज बेहद चुनौतीपूर्ण है। भारत ने मैच से पहले अपनी अंतिम-12 खिलाड़ियों की टीम का ऐलान कर दिया है। कोहली ने टीम में तीन तेज गेंदबाजों-ईशांत शर्मा, मोहम्मद शमी और जसप्रीत बुमराह को जगह दी है। वहीं, रविचंद्रन अश्विन भारत के स्पिन आक्रमण की जिम्मेदारी संभालेंगे।

12 खिलाड़ियों की टीम में रोहित शर्मा और हनुमा विहारी भी हैं। इन दोनों में से कौन अंतिम एकादश में शामिल हो पाता है यह मैच के दिन ही पता चलेगा। विहारी ऑफ स्पिनर भी हैं, ऐसे में उनके टीम में आने की संभावना ज्यादा है।

बल्लेबाजी में टीम पूरी तरह से कप्तान कोहली पर निर्भर होगी। टीम को मैच से पहले एक बड़ा झटका पृथ्वी शॉ की चोट के रूप में लगा है। पृथ्वी अभ्यास मैच में चोटिल हो गए। वो पहले टेस्ट में नहीं खेलेंगे। उनके जाने से मुरली विजय और केएल राहुल को फायदा हुआ है। अगर पृथ्वी फिट होते तो इन दोनों में से किसी एक को बाहर बैठना पड़ सकता था। सलामी बल्लेबाजी की जिम्मेदारी इन्हीं पर होगी।

बल्लेबाजी क्रम में सबसे ज्यादा नजरें रहाणे और ऋषभ पंत पर होंगी। रहाणे का पिछला ऑस्ट्रेलिया दौरा अच्छा रहा था लेकिन इसी साल इंग्लैंड दौरे पर और फिर घर में वेस्टइंडीज के खिलाफ खेली गई सीरीज में वह बल्ले से कुछ खास कमाल नहीं दिखा पाए थे।

टेस्ट टीम का उप-कप्तान होने के नाते उनका फॉर्म में होना टीम के लिए बेहद जरूरी है। पंत ने इंग्लैंड में अच्छी बल्लेबाजी की थी और शतक भी जमाया था। इस दौर पर वो क्या कर पातें हैं, यह देखना रोचक होगा।

वहीं, अगर ऑस्ट्रेलिया की बात की जाए तो उसने अपने अंतिम-11 की घोषणा कर दी है। कप्तान टिम पेन ने मार्कस हैरिस को डेब्‍यू का मौका दिया है। वो सलामी बल्लेबाज एरॉन फिंच के साथ पारी की शुरुआत करता दिख सकता है।

टिम पेन के सामने समस्या यह है कि टीम में उस्मान ख्वाजा के रूप में एक और सलामी बल्लेबाज है। ऐसे में वो किस जोड़ी को पारी की शुरुआत करने के लिए भेजते हैं यह देखना होगा।

मिशेल मार्श को टीम में नहीं चुना गया है जबकि उनके भाई शॉन मार्श टीम की बल्लेबाजी को मजबूत करेंगे। पीटर हैंड्सकॉम्ब को भी पेन ने मौका दिया है। गेंदबाजी में ऑस्ट्रेलिया के पास मिशेल स्टार्क के रूप में बड़ा गेंदबाज है। स्टार्क ऐसे गेंदबाज हैं जो भारत के कप्तान कोहली को परेशान करने का दम रखते हैं। कोहली और स्टार्क के बीच की प्रतिस्पर्धा पर भी इस मैच में सबकी नजरें होंगी।

स्टार्क के अलावा नई गेंद से पैट कमिंस पर भी बड़ी जिम्मेदारी होगी। वहीं, स्पिन में ऑस्ट्रेलिया के पास नाथन लियोन के रूप में अच्छा गेंदबाज है। लियान इस समय बेहतरीन फॉर्म में हैं। भारत को निश्चित तौर पर उनके खिलाफ सावधानी से खेलना होगा।

भारत ने एडिलेड में अभी तक एकमात्र जीत दर्ज की है, जो उसे 2003 में मिली थी। इसके बाद भारत कभी भी यहां टेस्ट मैच नहीं जीत सका है। ऐसे में कोहली एंड कंपनी की नजरें इतिहास अपने नाम करने पर भी होंगी।

वहीं, अगर ऑस्ट्रेलिया की बात की जाए तो उसका हालिया प्रदर्शन अच्छा नहीं रहा। पाकिस्तान, दक्षिण अफ्रीका ने उसे मात दी है। बॉल टैंपरिंग विवाद के बाद वो पहली बार अपने घर में टेस्ट सीरीज खेल रही है। देखना होगा कि घर में वो नए अध्याय की शुरुआत कर पाती है या नहीं।

भारत : विराट कोहली (कप्तान), मुरली विजय, लोकेश राहुल, चेतेश्वर पुजारा, अजिंक्य रहाणे, रोहित शर्मा, हनुमा विहारी, ऋषभ पंत (विकेटकीपर), रविचंद्रन अश्विन, जसप्रीत बुमराह, इशांत शर्मा और मोहम्मद शमी।

ऑस्ट्रेलिया : टिम पेन (कप्तान/विकेटकीपर), एरॉन फिंच, मार्कस हैरिस, उस्मान ख्वाजा, शॉन मार्श, पीटर हैंड्सकॉम्ब, ट्रेविस हेड, मिशेल स्टार्क, पैट कमिंस, नाथन लियोन, जोस हेजलवुड।

(एजेंसी इनपुट के साथ)