© AFP
© AFP

विलक्षण प्रतिभा के धनी ऋषभ पंत की व्यक्तिगत जिंदगी में तब भूचाल आ गया जब इस बुधवार को उनके पिता राजेंद्र पंत का सोते हुए दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया। युवा क्रिकेटर ऋषभ जो उस समय दिल्ली में आईपीएल के लिए अपनी टीम दिल्ली डेयरडेविल्स के साथ ट्रेनिंग में व्यस्त थे। ये खबर मिलते ही आनन- फानन में अपने गृह नगर रुड़की निकल गए और गुरुवार को अपने पिता का अंतिम संस्कार किया। जैसा कि दिल्ली को अपना पहला मैच शनिवार को रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर(आरसीबी) के खिलाफ खेलना था। इस लिहाज से माना जा रहा था कि शायद ही ऋषभ पहले मैच में टीम का हिस्सा बने। हालांकि, वह मैच के एक दिन पहले शाम को टीम से जुड़ गए। लेकिन इसके बावजूद वह अंतिम एकादश में शामिल होंगे या नहीं इसको लेकर संशय बरकरार था।

बहरहाल, युवा क्रिकेटर ने अपना पहला मैच ही नहीं खेला बल्कि शानदार अर्धशतक लगाते हुए अपनी टीम को जीत के दरवाजे पर लाकर खड़ा कर दिया। उन्हें दूसरे छोर से पर्याप्त सहयोग नहीं मिला। जिसकी वजह से उनकी टीम को हार का सामना करना पड़ा। लेकिन दुख में डूबे ऋषभ को इस शानदार पारी खेलने के लिए चारों ओर से तारीफें मिलीं। टीम इंडिया के स्टार क्रिकेटर युवराज सिंह जो उस समय टीम इंडिया के हिस्सा थे जब ऋषभ ने इंग्लैंड के खिलाफ टीम इंडिया में पदार्पण किया था। उन्होंने इस युवा क्रिकेटर को एक दिल कुरेदने वाला संदेश भेजा। युवराज ने अपने ट्विटर हैंडल पर लिखा, “तुम्हारे पिता के निधन के लिए अफसोस, रिषभ ने इसके बावजूद बेहतरीन बल्लेबाजी की। दबाव में होने के बावजूद मानसिक रूप से अपने आपको सुलझाना कठिन है। पूरा श्रेय आरसीबी को जाता है।” [आईपीएल 10-दिल्ली डेयरडेविल्स बनाम रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर मुकाबले का स्कोरकार्ड ]

पंत ने 36 गेंदों में 57 रनों की जुझारू पारी खेली। लेकिन उनकी टीम 15 रनों से ये मैच हार गई। उनके कप्तान जहीर खान ने भी मैच के बाद उनकी तारीफ की और कहा, “वह अच्छा खेले, और दूसरे छोर से और सहयोग की जरूरत थी। पंत ने बहुत साहस दिखाया। वह व्यक्तिगत आघात से गुजरे हैं। हम सब उनके साथ हैं।”