इंडियन प्रीमियर लीग (IPL 2020) के 13वें सीजन के आयोजन को लेकर फ्रेंचाइजियों ने बुधवार को टेलीकॉन्फ्रेंस के जरिए बैठक की, जहां खिलाड़ियों के रिप्लेसमेंट और मुख्य प्रायोजकों पर चर्चा हुई। फ्रेंचाइजी के एक अधिकारी ने आईएएनएस से कहा कि बैठक में खिलाड़ियों के रिप्लेसमेंट पर चर्चा हुई।

अधिकारी ने बताया, “कई तरह के रोचक मुद्दों पर चर्चा हुई और ये सभी कोविड-19 से प्रभावित हैं। खिलाड़ियों का रिप्लेसमेंट वायरस के कारण इस सीजन में अहम रोल निभा सकता है और हम बड़ी तस्वीर पर ध्यान दे रहे हैं और वो क्या मुद्दे हो सकते हैं जिन्हें हमें देखना है ताकि हम टूर्नामेंट के दौरान बैकफुट पर ना रहें।”

बैठक में मुख्य प्रायोजक वीवो का मुद्दा भी चर्चा का अहम विषय रहा। अधिकारी ने कहा, “हम आईपीएल से 45 दिन दूर हैं और इस समय निश्चित तौर पर ये ध्यान देने का विषय है क्योंकि हमें नए प्रायोजक की जरूरत है। रेवेन्यू की तरफ देखें तो कई तरह की चीजों पर चर्चा की जानी जरूरी है क्योंकि आखिर में ये एक परिवार है, ऐसा नहीं है कि आईपीएल फ्रेंचाइजियां और बीसीसीआई अलग रास्ते पर हैं।”

उन्होंने कहा, “हम सभी सफल आईपीएल चाहते हैं। नया प्रायोजक आ रहा है, यह देखना भी होगा कि नया प्रायोजक क्या लेकर आता है। क्या वो उस रकम के करीब लेकर आता है जो वीवो लगा रहा था। इस तरह की चीजों पर ध्यान रखना होगा। साथ ही इस बात का ध्यान रखना होगा कि भारतीय प्रशंसकों की भावना हमारी प्राथमिकता है।”

एक अन्य फ्रेंचाइजी के अधिकारी ने कहा कि खर्च को लेकर भी चर्चा की जहां टीमों ने व्यावस्था और यूएई जाने और वहां ठहरने को लेकर बात की। उन्होंने कहा, “हमारी व्यवस्थात्मक पहलू को लेकर भी चर्चा हुई और हम किस तरह से इससे निपटेंगे। बोर्ड ने हमारे लिए एसओपी तैयार की है इसलिए हमें उनसे अपने रोडमैप को बोर्ड के एसओपी में शामिल करने को लेकर चर्चा करनी है।”