किंग्स इलेवन पंजाब (KXIP) टीम ने दिल्ली कैपिटल्स (Delhi Capitals) के खिलाफ मैच के 19वें ओवर की तीसरी गेंद पर दिए अंपायर के शॉर्ट रन के फैसले के खिलाफ मैच रेफरी जवागल श्रीनाथ से अपील की है।

क्या था पूरा मामला

रविवार को दुबई में खेले गए मैच के दौरान जब पंजाब टीम रनों का पीछा कर रही थी और उनके सेट बल्लेबाज मयंक अग्रवाल क्रीज पर थे, तब 19वें ओवर में कगीसो रबाडा की तीसरी गेंद पर अंपायर नितिन मेनन ने उनके द्वारा लिए दो रनों में से पहले रन को ये कहकर नहीं गिना कि क्रिस जॉर्डन ने रन लेते समय बैट से लाइन को पूरी तरह नहीं छुआ है। हालांकि मैच के बाद सोशल मीडिया पर वायरल हो रही तस्वीरों से अलग ही कहानी पता चलती है।

एक रन कितना अहम

इस एक रन का महत्व पंजाब के लिए काफी था क्योंकि आखिरी तीन गेंदो पर 1 रन ना बना पाने की वजह से टीम को सुपर ओवर खेलना पड़ा, जहां वो हार गए। जिसके बाद टीम ने आधिकारिक अपील करने का फैसला किया। टीम के सीईओ सतीश मेनन ने इस खबर की पुष्टि की है।

पंजाब के सीईओ का बयान

मेनन का कहना है कि इस तरह की गलती उन्हें प्लेऑफ में जगह पक्की करने से रोक सकती है। पीटीआई को दिए बयान में उन्होंने कहा, “हमने मैच रेफरी से अपील की है। माना कि इंसान से गलतियां हो जाती है और हम वो बात समझते हैं लेकिन आईपीएल जैसे बड़े टूर्नामेंट में इस तरह की गलतियों की जगह नहीं है। ये एक रन हमें प्लेऑफ की बर्थ से दूर तक सकता था। हार का मतलब हार है, ये गलत है। मुझे उम्मीद है कि नियमों की समीक्षा की जाएगी ताकि इस तरह की गलती की गुंजाइश ना रहे।”

क्या है नियम

आईसीसी और आईपीएल के नियमों के मुताबिक अगर फील्ड अंपायर को बाउंड्री या विकेट से जुडे़ किसी फैसले को लेने में मुश्किल हो रही है तो वो थर्ड अंपायर की मदद ले सकते हैं। लेकिन बाकी चीजों जैसे कि शॉर्ट रन, के लिए ऐसा नियम नहीं है। इस वजह से थर्ड अंपायर इन हालातों में फील्ड अंपायर की मदद नहीं कर सकता है।