IPL 2020: Picking Piyush Chawla was a deliberate decision; He has good rapport with MS Dhoni, says Stephen Fleming
चेन्नई सुपर किंग्स के कोच स्टीफेन फ्लेमिंग (IANS)

चेन्नई सुपर किंग्स के कोच स्टीफन फ्लेमिंग ने गुरुवार को कहा कि उनकी आईपीएल टीम ने पीयूष चावला को लेने के लिए इसलिए आखिर तक मोर्चा संभाले रखा क्योंकि उनके कप्तान महेंद्र सिंह धोनी से बहुत अच्छे संबंध हैं और इसके अलावा वो अच्छे स्पिनर भी हैं।

चावला को चेन्नई सुपरकिंग्स ने 6.75 करोड़ रूपये में अपनी टीम से जोड़ा। फ्लेमिंग ने कहा कि ये सोचा समझा फैसला है क्योंकि चेन्नई के घरेलू मैदान चेपॉक का विकेट धीमा है।

उन्होंने कहा, ‘‘हमने उसके लिए मोर्चा संभाले रखा और निश्चित तौर पर कप्तान के उसके साथ बहुत अच्छे संबंध हैं। वो साबित कर चुका है कि वो बेहतरीन लेग स्पिनर हैं। वो कर्ण शर्मा से भिन्न तरह के गेंदबाज है।’’

IPL Auction 2020: खत्म हुई नीलामी की प्रक्रिया, पैट कमिंस बने सबसे महंगे खिलाड़ी

कोच ने आगे कहा, “हमें कुछ फैसले सब कुछ देख समझकर लेने थे लेकिन ये एक मौका था और हमने उसका फायदा उठाया। हमारे पास एक संतुलित स्क्वाड है। हमें हमेशा से ही स्पिन को प्राथमिकता दी है, हमारा घरेलू मैदान स्पिन का मददगार है इसलिए ज्यादा स्पिन गेंदबाज होनें में कोई बुराई नहीं है।”

सैम कर्रन देगें ड्वेन ब्रावो का साथ

सीएसके की महंगी खरीद में चावला के साथ इंग्लिश ऑलराउंडर सैम कर्रन का नाम भी शामिल है। चेन्नई ने कर्रन को 5.5 करोड़ में खरीदा, जिसे फ्लेमिंग सही फैसला मानते हैं।

इस बारे में कोच ने कहा, “कई खिलाड़ी थे, कमिंस ऐसा खिलाड़ी था जिसे ज्यादातर टीमों ने देखा लेकिन हमारे पास ज्यादा पैसे नहीं थे। इसलिए हमें बहुत स्मार्ट होना था। हमें सैम कर्रन पसंद था। हां, वो एक बाएं हाथ का सीमर है जो बल्लेबाजी कर सकता है। खेल के प्रति स्वभाव अच्छा है, वो पूरी तरह खेल में डूब जाता है। उसने पहले हमारे खिलाफ अच्छा खेला है। वो इंग्लैंड के लिए अच्छा खेल रहा है। इसलिए वो (ड्वेन) ब्रावो के साथ हमारे स्क्वाड में 7 नंबर के लिए अच्छा फिट है।”

पीयूष चावला बोले- धोनी से बेहतर कप्तान के साथ खेलने का नहीं सोच सकता था

जॉश हेजलवुड के आने से मजबूत होगी पेस बैटरी

पहले राउंड में ना बिकने वाले ऑस्ट्रेलियाई तेज गेंदबाज जॉश हेजलवुड को चेन्नई ने दूसरी बार में बेस प्राइस (2 करोड़ में खरीदा), जो कि स्मार्ट फैसला था क्योंकि उनकी टीम को एक विदेशी तेज गेंदबाज की जरूरत थी।

हेजलवुड के बारे में फ्लेमिंग ने कहा, “और आखिर में हेजलवुड को खरीदने से (लुंगी) एनगिडी के अलावा हमारे स्क्वाड में थोड़ी और गति जुड़ गई। बाकी टीमों की तरह, हम भी कुछ टुकड़े जोड़ने और फिर उस हिसाब से अपना कॉम्बिनेशन तैयार करने की कोशिश कर रहे थे। आप परेशान हो सकते हैं लेकिन हम अपने ग्रुप से खुश हैं।”