IPL played bigger role in my success, says Rashid Khan
Rashid Khan (File Photo) © IANS

हैदराबाद की टीम का हिस्‍सा राशिद खान अपने करियर की सफलता का श्रेय इंडियन प्रीमियर लीग को देते हैं। राशिद का मानना है कि आईपीएल जैसे प्‍लेटफॉर्म पर अच्‍छा प्रदर्शन कर ही वो चर्चा में आए। राशिद का ये भी कहना है कि वो लेग स्पिन के साथ-साथ बल्‍लेबाजी के लिए भी समानतर समय देने का प्रयास करते हैं।

पढ़ें:- अफगानिस्तान ने विश्व कप स्क्वाड का ऐलान किया, असगर अफगान को मिली जगह

क्रिकेट नेक्‍सट से बातचीत के दौरान राशिद ने कहा, “2017 से मेरे आईपीएल करियर की शुरुआत हुई। इसके बाद सबकुछ बदल गया। आईपीएल एक ऐसा मंच है जहां अगर आप अच्‍छा प्रदर्शन करोगे तो पूरी दुनिया में आपका नाम होगा। यहां पर टॉप क्‍वालिटी के खिलाड़ी खेलते हैं। मैदान में आला दर्जे की टीमें आमने-सामने होती है, जिससे एक खिलाड़ी को काफी आत्‍मविश्‍वास मिलता है।”

पढ़ें:- विश्व कप खेलने को उत्साहित हूं लेकिन ध्यान फिलहाल आईपीएल पर: चहल

अफगानिस्‍तान के इस खिलाड़ी का कहना है कि हैदराबाद फ्रेंचाइजी ने मुझे काफी सपाेर्ट किया है। “जिस दिन मैं पहली बार आईपीएल खेलने के लिए आया था तभी से टीम ने मुझमें काफी विश्‍वास दिखाया। मैं अपना हुनर दिखाना चाहता था। टीम ने मुझे खुद पर भरोसा करने में मदद की। वहीं से मेरे करियर की शुरुआत हुई।”

राशिद ने कहा, “पिछले कुछ सालों में मैंने अलग अलग स्‍पीड से लेग स्पिन डालना सीखा है। कभी विकेट से मदद मिलती है और काभी नहीं मिलती। ऐसे में कंडीशन के मुताबिक गेंदबाजी की गति में परिवर्तन करना होता है। नेट्स पर मैं दो और तीन प्रकार की ग्रिप के साथ लेग स्पिन कराने का प्रयास करता हूं और इससे मुझे अलग-अलग मैच की परिस्थितियों में मदद मिलती है। जब मेरी स्‍टॉक डिलीवरी काम नहीं करती तो मैं अलग एक्‍शन से गेंदबाजी का प्रयास करता हूं। मैं मिश्रण के साथ गेंदबाजी की कोशिश करता हूं।”

पढ़ें:- “टीम इंडिया को ये विश्व कप जिता सकते हैं ‘कैप्टन कूल’ और किंग कोहली”

राशिद गेंदबाजी के साथ-साथ ठीक ठाक बल्‍लेबाजी भी कर लेते हैं। उन्‍होंने कहा, “बल्‍लेबाजी की कला मुझे में स्‍वभाविक तौर पर ही आई है। पहले मैं एक बल्‍लेबाज था फिर लेग स्पिनर बना। ऐसे में बल्‍लेबाजी मुझे हमेशा आकर्षित करती है। क्रिकेट मेरी जिंदगी है। ऐसे में जितना समय मैं अपनी गेंदबाजी को देता हूं उतना ही समय बल्‍लेबाजी को देने का भी प्रयास करता हूं।”