कोविड-19 (Covid-19) वैश्विक महामारी के कारण इस समय पूरी दुनिया में खेल की लगभग सभी प्रतियोगिताएं या तो स्थगित कर दी गई हैं या उन्हें रद्द कर दिया गया है. टोक्यो ओलंपिक 2020 को भी एक साल के लिए टाल दिया गया है जबकि भारत में आयोजित होने वाला बहुप्रतीक्षित इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) 2020 सीजन को भी 14 अप्रैल तक के लिए स्थगित किया गया है. हालांकि आईपीएल के आयोजन पर संशय के बादल मंडरा रहे हैं.

इंग्लैंड क्रिकेट टीम के विकेटकीपर बल्लेबाज जोस बटलर का कहना है कि आईपीएल काफी बड़ा टूर्नामेंट है और कोरोनावायरस के कारण इसका आयोजन नहीं होना ‘किसी नाकामी’ की तरह है. बटलर को उम्मीद है कि ग्लैमर और चकाचौंध से भरा यह टूर्नामेंट इस साल बाद में आयोजित किया जाएगा.

‘IPL कॉन्ट्रेक्ट को बचाने के लिए Virat Kohli को स्लेज करने से बच रहे हैं ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी’

‘सब कुछ काफी अनिश्चित है’

राजस्थान रॉयल्स फ्रेंचाइजी की ओर से खेलने वाले बटलर ने ईएसपीनक्रिकइंफो से कहा, ‘मुझे इस बारे में कोई जानकारी नहीं है कि आईपीएल कब खेला जाएगा या स्थगित होगा. फिलहाल, सब कुछ काफी अनिश्चित है क्योंकि कोई नहीं जानता कि यह (कोविड-19 का प्रकोप) कब तक चलेगा. इसलिए अभी यह तय नहीं किया जा सकता कि टूर्नामेंट का आयोजन होगा या नहीं.’

‘आईपीएल नहीं होने पर राजस्व पर बड़ा असर पड़ेगा’

आईपीएल के कुछ सत्र में सफलता हासिल करने के बाद बटलर सीमित ओवरों के क्रिकेट में बड़े खिलाड़ी के तौर पर उभरे हैं. उन्होंने कहा कि आईपीएल नहीं होने पर राजस्व पर बड़ा असर पड़ेगा.

बकौल बटलर, ‘टूर्नामेंट को देखें तो यह काफी बड़ा आयोजन है. आईपीएल में बहुत अधिक धनराशि लगी होती है. यह क्रिकेट एक बहुत महत्वपूर्ण प्रतियोगिता है और अगर टूर्नामेंट को आगे नहीं बढ़ाया गया तो यह बड़ी नाकामी होगी. इसे स्थगित कर बाद में आयोजित करने पर विचार करना चाहिए.’

चेन्नई सुपर किंग्स से बेहतर है मुंबई इंडियंस का रिकॉर्ड: संजय मांजरेकर

‘कुछ खिलाड़ी अनुपलब्ध हो सकते हैं’

आईपीएल को हालांकि अगर बाद में आयोजित किया जाता है तो द्विपक्षीय प्रतिबद्धताओं के कारण कुछ शीर्ष खिलाड़ी इस टूर्नामेंट में भाग नहीं ले पाएंगे. उन्होंने कहा, ‘बेशक, कुछ खिलाड़ी अनुपलब्ध हो सकते हैं. उन्हें परिस्थिति के अनुसार काम करना होगा.’

गौरतलब है कि कोरोनावायरस के संक्रमण से भारत में अब तक 100 से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है जबकि इससे संक्रमित मरीजों की संख्या 4 हजार के पार पहुंच गई है. दुनिया भर में इस वायरस की चपेट में आकर लगभग 60 हजार से अधिक लोग अपनी जान गंवा चुके हैं. कोरोनावायरस की चेन को तोड़ने के लिए भारत में इस समय 21 दिन का लॉकडाउन घोषित है.