जॉश हेजलवुड मिशेल स्टार्क के साथ ऑस्ट्रेलियाई पेस अटैक का नेतृत्व करेंगे © Getty Images
जॉश हेजलवुड मिशेल स्टार्क के साथ ऑस्ट्रेलियाई पेस अटैक का नेतृत्व करेंगे © Getty Images

ऑस्ट्रेलियाई तेज गेंदबाज जॉश हेजलवुड का मानना है कि भारत दौरे के लिए 3 तेज गेंदबाज काफी हैं। ऑस्ट्रेलियाई टीम फरवरी में भारत के साथ 4 टेस्ट मैचों की सीरीज खेलने के लिए भारत आ रही है। क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया ने रविवार को 16 सदस्यीय टीम की घोषणा की है जिसमें 4 स्पिन गेंदबाजों को जगह दी गई है। हेजलवुड ने कहा कि मेरा मानना है कि तीन तेज गेंदबाज भारत दौरे के लिए पर्याप्त हैं। वहां जाकर सफलता हासिल करने वाले तेज गेंदबाज बहुत कम ही रहे हैं। हेजलवुड ने आगे कहा कि मेरा मानना है कि जिस तरह मिशेल स्टार्क ने श्रीलंका में गेंदबाजी की उससे हम सीख सकते हैं। वह कभी कभी पिच को दरकिनार करते हुए फुल लेंथ पर तेज गेंद डालते हैं।

हेजलवुड, स्टार्क और जैक्सन बर्ड के अलावा सिर्फ मिशेल मार्श तेज गेंदबाजी का विकल्प हैं और भारतीय स्पिन फ्रेंडली विकेटों को देखकर स्टीवन स्मिथ दो तेज गेंदबाजों के साथ उतर सकते हैं। हममें सभी के पास लग्जरी नहीं है लेकिन हमें एक ग्रुप में एक साथ सफलता पाने के अलावा स्पिनरों के साथ सफलता पाने का रास्ता खोजना होगा। ऑस्ट्रेलिया भारतीय सरजमीं पर 2004 के बाद से कोई टेस्ट नहीं जीत सकी है। ऑस्ट्रेलियाई टीम ने एशियाई धरती पर 2011 में अंतिम बार कोई सीरीज जीती थी। इसके बाद से उन्हें लगातार 9 हार का सामना करना पड़ा है। [Also Read: श्रीधरन श्रीराम भारत दौरे के लिए ऑस्ट्रेलियाई टीम के स्पिन सलाहकार नियुक्त]

23 फरवरी से शुरू होने वाले इस सीरीज में नाथन लियोन, एस्टन एगर और स्टीव ओ कीफ के अलावा 23 वर्षीय मिचेल स्वेप्सन को भी टीम में जगह दी गई है। अब देखने वाली बात यह होगी कि हमेशा तीन तेज गेंदबाजों के साथ खेलने वाली ऑस्ट्रेलियाई टीम स्पिन अटैक की रणनीति के साथ भारत में अपने हार के सिलसिले को तोड़ पाती है या नहीं।