Mark Boucher feels the underdog tag might be a blessing in disguise for Proteas
Mark Boucher (File Photo) © Getty Images

विश्‍व कप 2019 को अब एक साल से भी कम वक्‍त बचा है। सभी टीम इस मेगा इवेंट में उतरने से पहले अपने परफेक्‍ट प्‍लेइंग इलवेन को तलाशने में लगी हैं। टीम इंडिया में भी इस वक्‍त बड़े खिलाड़ियों को उचित आराम देकर उन्‍हें मेजर इवेंट के लिए फिट रखने पर जोर दिया जा रहा है।

साउथ अफ्रीका की टीम अबतक एक बार भी विश्‍व कप नहीं जीत पाई है। इंग्‍लैंड में होने वाले अगले विश्‍व कप से पहले साउथ अफ्रीका को अंडरडॉग (हल्‍के में आंकना) माना जा रहा है। टीम के पूर्व विकेटकीपर मार्क बाउचर ने गल्‍फ न्‍यूज से बातचीत के दौरान कहा, “विश्‍व कप 2019 में अंडरडॉग का टैग हमारे लिए काफी अच्‍छा है। इससे हमें काफी फायदा मिलने वाला है।”

अबू धाबी में बाउचर ने गुरुवार को कहा, “हर विश्‍व कप से पहले सभी लोग टीम में मौजूद खिलाड़ियों पर नजर डालते हैं। ऑन पेपर हमारी टीम हमेशा से ही काफी मजबूत रही है। शायद इस विश्‍व कप में हम कागजों पर इतने मजबूत नजर नहीं आ रहे हैं। मुझे लगता है कि ये हमारी टीम के लिए मददगार साबित होगा।”

मार्क बाउचर के नाम अब भी टेस्‍ट में बतौर विकेटकीपर सबसे ज्‍यादा विरोधी टीम के कैच लेने का रिकॉर्ड है। उन्‍होंने टेस्‍ट क्रिकेट में 532 खिलाड़ियों को पवेलियन का रास्‍ता दिखाया। साल 2012 में इंग्‍लैंड काउंटी के दौरान बेल्‍स आंख में लगने के कारण उन्‍हें क्रिकेट से संन्‍यास लेना पड़ा था।

मार्क बाउचर ने कहा, “हम मौजूदा समय के बेस्‍ट टीमों के मुकाबले कहीं पास नजर नहीं आते हैं। ये टीम को काफी जगह देने मे मदद करेगा। हम विश्‍व कप में जाकर सभी को अपने प्रदर्शन से चौंका सकते हैं। अगर आप सेमी फाइनल या फाइनल तक पहुंचते हैं तो कुछ भी हो सकता है। एक बड़ी पारी आपको जिता या हरा सकती है। हमें अपना सबसे अच्‍छा प्रदर्शन कर सेमी फाइनल तक पहुंचने का प्रयास करना होगा।”

बाउचर ने साउथ अफ्रीका की टीम के लिए चाेकर शब्‍द का इस्‍तेमाल किए जाने पर आपत्ति दर्ज की। बाउचर ने कहा, “हमारे लिए अक्‍सर चोकर शब्‍द का प्रयाेग किया जाता है, ये ठीक नहीं है। विश्‍व कप जीतने के लिए आपको किस्‍मत की भी जरूरत होती है। इस वक्‍त दुनिया में बहुत सी बड़ी टीमें क्रिकेट खेल रही हैं। हमारी टीम काफी अच्‍छी है, लेकन एबी डिविलियर्स के संन्‍यास लेने के बाद बल्‍लेबाजी में गहराई की कमी नजर आती है।”