Mitchell Marsh is hopeful Australian fans will respect him after his successful comeback
मिशेल मार्श © Getty Images

दिसंबर 2018 के बाद इंग्लैंड के खिलाफ आखिरी एशेज टेस्ट से ऑस्ट्रेलियाई टेस्ट टीम में वापसी करने वाले मिशेल मार्श को उम्मीद है उनकी लगातार वापसी करने की हिम्मत की वजह से कंगारू फैंस उनका सम्मान करेंगे।

ओवल टेस्ट के पहले दिन शानदार गेंदबाजी करते हुए चार विकेट लेने वाले मार्श ने प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान माना कि ऑस्ट्रेलियाई फैंस उनसे नफरत करते हैं। उन्होंने कहा, “हां, ज्यादातर ऑस्ट्रेलियाई मुझसे नफरत करते हैं। ऑस्ट्रेलिया के लोग काफी जुनूनी हैं, वो क्रिकेट से प्यार करते हैं, वो चाहते हैं कि खिलाड़ी अच्छा करें।”

मार्श ने आगे कहा, “इस बात में कोई शक नहीं है कि मुझे टेस्ट क्रिकेट में काफी मौके मिले और मैंने उनका पूरी तरह से फायदा नहीं उठाया। लेकिन उम्मीद है कि वो इस बात पर मेरा सम्मान करेंगे कि मैं लगातार वापसी करता हूं और मुझे ऑस्ट्रेलिया के लिए खेलने से प्यार है। मुझे बैगी ग्रीन कैप से प्यार है और मैं लगातार कोशिश करता रहूंगा और उम्मीद है कि एक दिन उनका दिल जीत लूंगा।”

बटलर ने संभाली इंग्‍लैंड की डगमगाती पारी, इंग्‍लैंड-271/8

नौ महीनों के बाद अपना पहला टेस्ट मैच खेलने केनिंग्टन ओवल में उतरे मार्श ने कहा वो ‘क्रिसमस की सुबह खुश किसी बच्चे’ जैसा महसूस कर रहे थे। ओवल टेस्ट के पहले दिन मार्श ऑस्ट्रेलियाई अटैक के केंद्र में थे। उन्होंने 16.1 ओवर में केवल 35 रन देकर चार विकेट हासिल किए, जिसमें बेन स्टोक्स, जॉनी बेयरस्टो के अहम विकेट शामिल हैं।

मार्श ने बताया कि कोच जस्टिन लैंगर ने उन्हें आक्रामक गेंदबाजी करने की पूरी आजादी दी थी। उन्होंने कहा, “खेल शुरू होने से पहले और लंच ब्रेक के दौरान जेएल मेरे पास और कहा ‘जाओ और अटैक करो, तुम्हे जैसे गेंदबाजी करनी है वैसे करो’। मैं थोड़ा हैरान था लेकिन इससे मुझे मैदान पर जाकर अपना पूरा योगदान देने का आत्मविश्वास मिला। शायद मानसिकता में बदलाव की वजह से मुझे ज्यादा आक्रामक गेंदबाजी करने का मौका मिला।”

रद्द हो सकता है पाकिस्तानी महिला टीम का भारत दौरा

अपनी गेंदबाजी योजना के बारे में मार्श ने कहा, “ड्यूक गेंद मेरे लिए हमेशा स्विंग करती है, मैंने कुछ अलग नहीं किया। मैंने सीम को ऊपर रखा, इसे पहली स्लिप की तरफ ले गया और आज पूरे दिन ये मेरे लिए स्विंग हुई, जिससे मुझे ज्यादा आक्रामक होने में मदद मिली।”