भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच शुक्रवार को पांच मैचों की वनडे सीरीज की तीसरा मैच रांची में खेला जाना है। यह पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी का घरेलू मैदान है और ऐसा माना जा रहा है यह यहां उनका आखिरी मुकाबला हो सकता है।

खबरों की माने तो धोनी इंग्लैंड में होने वाले विश्व कप के बाद संन्यास ले सकते हैं। ऐसे में शुक्रवार को खेला जाने वाला यह मैच उनके घर रांची में भारत के लिए आखिरी मैच हो सकता है।

पढ़ें:- धोनी ने बड़ी सादगी से ‘धोनी पवेलियन’ का उद्घाटन करने से किया मना

37 साल महेंद्र सिंह धोनी ने 23 दिसंबर 2004 में बांग्लादेश के खिलाफ वनडे के जरिए इंटरनेशनल क्रिकेट में कदम रखा था। महज तीन साल के अंदर ही वह भारतीय टीम के कप्तान बन गए। धोनी की कप्तानी में भारत ने साल 2007 में खेले गए पहले टी20 विश्व कप को जीता था।

धोनी दुनिया के ऐसे अकेले कप्तान है जिन्होंने आईसीसी के तीन बड़े खिताब अपने नाम किए हैं। उनकी कप्तानी में भारत ने 2007 में आईसीसी टी20 विश्व कप, 2011 में आईसीसी वनडे विश्व कप और 2013 में आईसीसी चैंपियंस ट्रॉफी का खिताब अपने नाम किया था।

झारखंड राज्य क्रिकेट संघ (जेएससीए) के इस स्टेडियम में अब तक धोनी ने कुल तीन वनडे मैच खेले हैं जिसमें उनके नाम कोई बड़ा स्कोर नहीं है। तीन मैच में 11 रन के सर्वाधिक स्कोर के साथ धोनी ने कुल 21 रन बनाए हैं।