© Getty Images
© Getty Images

भारत और न्यूजीलैंड के पहले टेस्ट मैच में मुरली विजय और पुजारा की अच्छी शुरूआत के बाद भी एक समय टीम चार विकेट खोकर 200 बनाने के लिए संघर्ष कर रही थी। जब रोहित शर्मा क्रीज पर उतरे। सिलेक्शन के बाद से ही हो रही आलोचनाओं का जवाब देने का रोहित के पास एक अच्छा मौका था। पर रोहित ने वही किया जिसके लिए वो जाने जाते हैं या यूं कहा जाय की जिसके लिए वो बदनाम हैं। उन्होंने बड़ी आसानी से अपनी विकेट गेंदबाज के हाथों में दे दी। वनडे में दो बार दोहरा शतक लगाने वाले अकेले बल्लेबाज रोहित टेस्ट में अभी तक कोई खास कमाल नहीं दिखा पाए है। टेस्ट में उनकी एवरेज 23.89 है, जबकि वनडे में वे 42.08 की है। वनडे में आसानी से रन बनाने वाले रोहित टेस्ट फॉर्मट में अभी तक स्ट्रगल ही कर रहे हैं। गुरुवार को रोहित 35 रन पर काफी अच्छा खेल रहे थे, तभी मिशेल स्टेनर की गेंद पर एक गलत शॉट खेलकर अपनी विकेट गवां बैठे।

सचिन की जिन्दगी में रमाकांत आचरेकर जो अहमियत रखते हैं वही जगह रोहित की जिंदगी में दिनेश लाड की है। 11 साल की उम्र से लाड ने रोहित को सिखाना शुरू किया था। लाड ने टेस्ट में रोहित के खराब फॉर्म का जिम्मेदार वनडे को बताया है। “रोहित अपने शॉट्स काफी जल्दी खेलने लगे हैं। न्यूजीलैंड के मैच में भी उसने अपना शॉट जल्दी खेल दिया जिससे उसका बैट हिल गया और वो आउट हो गया। मीडिया के प्रेशर को भी वो संभाल नहीं पा रहा है। इसकी वजह से वो मानसिक रूप से परेशान है। वो क्रीज पर खुले दिमाग से जा नहीं पा रहा है।” लाड, जिनका बेटा सिद्देश मुंबई रणजी टीम का खिलाड़ी है ने ये बातें मीडिया को बताईं। लाड ने आगे कहा “उसे ज्यादा टी20 और वनडे खेलने पड़ते है। अगर आप छोटे फॉर्मेट में जल्दी शॉट खेलते है तो बॉल बाउंड्री के पार कर जाती है क्योंकि सफेद बॉल लाल बॉल से तेज होती है। हालांकि उन्हें रोहित पर पूरा भरोसा है। उनका कहना है उसकी तकनीकी में कोई कमी नहीं है, उसे बस एक बड़ी इनिंग की जरूरत है। उन्होंने कहा, “टेस्ट में वापसी के लिए उसे बस एक बड़ी पारी खेलने की जरूरत है। मैं उससे बात करके उसे दबाव में न आने को कहूंगा। उसके खेलने के तरीके में कोई खराबी नहीं है।”