टीम इंडिया की जर्सी पर लिखा ओप्‍पो का विज्ञापन जल्‍द ही हटने वाला है। इसकी जगह बैंगलुरू की ऑनलाइन ट्यूटोरियल एप बायजू नजर आएगा। टाइम्‍स ऑफ इंडिया की माने तो टीम इंडिया की जर्सी पर लिखे ब्रांड नेम ओप्‍पो के साथ हुए बीसीसीआई के करार को अब बायजू आगे बढ़ाएगी।

पांच साल के लिए ओप्‍पो ने किया था करार

खबर के मुताबिक अगस्‍त तक टीम इंडिया की जर्सी पर स्‍पांसरशिप का अधिकार ओप्‍पों के पास ही रहेगा। सितंबर से बायजू को यह अधिकार दिए जाएंगे। साल 2007 में मोबाइल बनाने वाली चाइनीज कंपनी ओप्‍पो को पांच साल के लिए ये अधिकार दिए गए थे। हालांकि दो साल बाद ही कंपनी इससे पीछे हट गई है। बताया गया है कि कंपनी को स्‍पॉन्‍सरशिप के लिए दी गई रकम व्‍यवहारिक नहीं लगती, जिसके करण उन्‍होंने पीछे हटने का निर्णय लिया।

वित्‍तीय घाटे कम करने के लिए किया गया फैसला

अखबार की खबर के मुताबिक ओप्‍पो कंपनी को अपने वित्‍तीय घाटे कम करने हैं। जिसे देखते हुए उन्‍होंने बायजू के साथ करार करते हुए आगे उन्‍हें यह अधिकार दिलवा दिए हैं। इसके लिए ओप्‍पो को बायजू कंपनी को एक छोटी राशि का भुगतान करना होगा। आगे बायजू ही बीसीसीआई को स्‍पॉन्‍सरशिप के लिए पूरी पेमेंट करेगा। बीसीसीआई के लिए ये डील वैसे ही 2022 तक बायजू आगे बढ़ाएगा जैसे अबतक ओप्‍पो इसे चलाता आ रहा है।

एक मैच के लिए ओप्‍पो ने किया 4.6 करोड़ का भुगतान

बताया गया कि सिंतबर में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ भारत में होने वाली सीरीज में टीम इंडिया की जर्सी पर बायजू लिखा नजर आएगा। साल 2017 में प्रत्‍येक द्विपक्षीय सीरीज के एक मैच के लिए ओप्‍पो बीसीसीआई को 4.6 करोड़ रुपये का भुगतान करता आ रहा है। आईसीसी के टूर्नामेंट और एशिया कप के दौरान कंपनी ने बीसीसीआई को प्रत्‍येक मैच के लिए 1.56 करोड़ का भुगतान किया।