PL 2020: Host Broadcaster Star Sports Against two matches in a day, Wants Matches to Start Early

आईपीएल 2020 मार्च 29 से शुरु होना है। हालांकि प्रसारणकर्ता स्टार स्पोटर्स को परेशानी हो रही है क्योंकि वह चाहता है कि कार्यक्रम में एक दिन में दो मुकाबले नहीं रखे जाएं। टूर्नामेंट के लंबा खिंचने पर इसमें विदेशी खिलाड़ियों की कमी का सवाल भी आईपीएल गवर्निंग काउंसी के सामने बना हुआ है।

ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड के बीच खेली जाने वाली टी-20 सीरीज का अंतिम मैच 29 मार्च को ही खेला जाएगा। इसके अलावा इंग्लैंड और श्रीलंका के बीच खेली जाने वाली टेस्ट सीरीज का दूसरा मैच भी 31 मार्च को खत्म हो रहा है। इसलिए जिन टीमों के पास ऑस्ट्रेलिया, न्यूजीलैंड और इंग्लैंड के खिलाड़ी हैं वो टूर्नामेंट की शुरुआत अधूरी रहते हुए करेंगी।

पढ़ें:- AUS vs NZ: सिली प्‍वाइंट पर मैथ्‍यू वेड के सिर पर लगी गेंद, टूटा हेलमेट, फिर….

इसके अलावा काउंसिल के सामने मैच शुरू करने के समय को लेकर भी माथापच्ची करनी होगी क्योंकि स्टार स्पोटर्स चाहता है कि मैच जल्दी शुरू किए जाएं। वहीं, कुछ फ्रेंचाइजियों का मानना है कि प्लेऑफ की शुरुआत जल्दी करना ठीक है लेकिन लीग चरण के मैच आठ बजे से ही शुरू होने चाहिए।

न्‍यूज एजेंसी आईएएनएस से एक फ्रेंचाइजी के अधिकारी ने कहा कि प्रसारणकर्ता अपनी मर्जी के मुताबिक दो मुकाबले नहीं चाहते है। “देखिए, हम इस बात को मानते हैं कि अगर मैच चार बजे से होते हैं तो सिर्फ प्रसारणकर्ता ही नहीं बल्कि आय के हिसाब से फ्रेंचाइजियों को भी परेशानी होती है। लेकिन आपको यह सोचना होगा कि आईपीएल क्रिकेट के बारे में है और इसमें बच्चे और परिवारों को स्टेडियम में लाना शामिल है।”

पढ़ें:- AUS vs NZ: मार्नस लबुशाने ने करियर का पहला दोहरा शतक जड़ते ही तोड़ दिया स्‍टीव स्मिथ का ये रिकॉर्ड

उन्होंने कहा, “सप्ताह के अंत में बच्चों को दोपहर में स्टेडियम में लाना आसान है क्योंकि इससे उनका कार्यक्रम बिगड़ता नहीं है। बच्चे देर रात घर लौटें यह अच्छी बात नहीं होगी।”

एक अन्य फ्रेंचाइजी के अधिकारी ने कहा कि यह दिन में दो मुकाबले का ही मुद्दा ही था जिसके कारण बीसीसीआई ने टूर्नामेंट की शुरुआत मार्च के आखिरी सप्ताह में कराई न कि एक अप्रैल से, इससे टीम के अधिकतर विदेशी खिलाड़ी टीम के साथ जुड़ जाते।

अधिकारी ने आईएएनएस से कहा, “अगर हम दिन में दो मैचों के लिए गए होते तो हमारे पास टूर्नामेंट की शुरुआत में ही हमारे विदेशी खिलाड़ी होते। चूंकि यह सप्ताह के अंत में भी विकल्प नहीं है, इसलिए हमें जल्दी शुरुआत करना होगा ताकि टूर्नामेंट मई के आखिरी तक चले। इसलिए हमें अपने विदेशी खिलाड़ियों के बिना ही शुरुआत करनी होगी।”

मैच की शुरुआत किस समय पर की जाए यह भी एक चिंता का विषय है। स्टार स्पोटर्स का कहना है कि मैच शाम सात या साढ़े सात बजे से शुरू होने चाहिए ताकि मैच ज्यादा रात तक नहीं चले, लेकिन फ्रेंचाइजियों का मानना है कि कामकाज वाले दिन दर्शकों का इस समय तक मैदान पर आना मुश्किल होगा।

अधिकारी ने कहा, “अगर आप मेट्रो में रह रहे हैं तो आप जानते है कि दिल्ली, मुंबई और बेंगलुरू में ट्रैफिक कैसा रहता है। क्या आपको वाकई में लगता है कि लोग छह बजे ऑफिस से निकलने के बाद अपने परिवार को लेकर मैच की शुरुआत तक स्टेडियम में आ पाएंगे? समय में बदलाव करने से पहले यह ऐसी चीज है जिस पर विचार करना चाहिए।”