Ranji Trophy 2017-18: Gautam Gambhir shines as Delhi beat Madhya Pradesh to reach Semi-final
गौतम गंभीर © Getty Images

गौतम गंभीर की धमाकेदार 95 रनों की पारी की बदौलत दिल्ली ने मध्यप्रदेश के खिलाफ मैच में शानदार जीत दर्ज कर रणजी ट्रॉफी 2017-18 के सेमीफाइनल में जगह बना ली है। वहीं गुजरात के खिलाफ ड्रॉ रहे मैच में बंगाल ने पहली पारी में मिली बढ़त के आधार पर सेमीफाइनल की सीट पक्की कर ली है। दोनों टीमों का आमना सामना 17 दिसंबर को होने वाले पहले सेमीफाइनल मैच में होगा।

अभिमन्यू ईश्ववरन के शानदार शतक की मदद सेस बंगाल ने पहली पारी में 354 रन बनाए थे। वहीं अशोक डिंडा, इशान पोरल और बी अमित की शानदार गेंदबाजी की मदद से बंगाल ने गुजरात की पहली पारी को 224 पर समेट कर 130 रनों की विशाल बढ़त हासिल की। दूसरी पारी में ईश्वरन के साथ साथ अनुस्तुप मजूमदार ने भी शानदार शतक लगाया, वहीं ऋतिक चैटर्जी ने धमाकेदार दोहरा शतक जड़ दिया। दूसरी पारी में बंगाल ने 695 का स्कोर खड़ा कर दिया, जिसके बाद मैच ड्रॉ हो गया और बढ़त के हिसाब से बंगाल सेमीफाइनल में पहुंच गया।

मध्य प्रदेश के लिए 217 रनों के लक्ष्य का दिल्ली ने 51.4 ओवर में ही हासिल कर लिया। हालांकि शुरुआत में केवल 11 के स्कोर पर 1 विकेट गंवाकर दिल्ली टीम मुश्किल में थी लेकिन गंभीर ने कुनाल चंडेला के साथ मिलकर पारी को संभाल लिया। अर्धशतक बनाने का बाद चंदेला आउट हो गए, यहां से गंभीर का साथ ध्रुव शोरे ने दिया। गंभीर ने मात्र 5 रनों से अपने शतक से चूके, जब वह 95 के स्कोर पर रन आउट हो गए। उनकी इस संघर्षपूर्ण पारी की मदद से दिल्ली ने मध्य प्रदेश के खिलाफ 7 विकेट से बड़ी जीत दर्ज की।

रणजी ट्रॉफी 2017-18: क्वार्टरफाइनल में केरल की शर्मनाक हार, विदर्भ ने 412 रनों से धोया
रणजी ट्रॉफी 2017-18: क्वार्टरफाइनल में केरल की शर्मनाक हार, विदर्भ ने 412 रनों से धोया

मैच की शुरुआत मध्य प्रदेश की बल्लेबाजी से हुई, पहली पारी में एमपी टीम ने हरप्रीत सिंह के शतक की मदद से 338 रन बनाए। जवाब में दिल्ली 10 विकेट खोकर 405 रनों का लक्ष्य खड़ा किया। इस दौरान किसी बल्लेबाज ने शतक नहीं लगाया लेकिन कुनाल चंदेला ने 81, ध्रुव शोरे ने 78 और हिम्मत सिंह ने 71 रनों की पारी खेली। पहली पारी के हिसाब से दिल्ली ने 67 रनों की बढ़त हासिल कर ली थी।

एमपी की दूसरी पारी में विकास टोकस और विकास मिश्रा ने मिलकर पारी को 283 रनों पर समेट दिया। 217 रनों के लक्ष्य का पीछा करते उतरी दिल्ली टीम की शुरुआत अच्छी नहीं थी। 11 पर एक विकेट गंवाने के बाद गंभीर-कुनाल की साझेदारी ने जीत की मजबूत नींव रखी और ध्रुव शोरे ने टीम को जीत तक पहुंचाया।