इंग्लैंड के खिलाफ दूसरे टेस्ट मैच में चेन्नई की टर्निंग पिच पर शतकीय पारी खेलकर भारतीय ऑलराउंडर रविचंद्रन अश्विन (Ravichandran Ashwin) ने टेस्ट क्रिकेट में सबसे ज्यादा बार एक ही मैच में शतक और पांच विकेट हॉल लेने वाले दूसरे खिलाड़ी बने।

अश्विन ने अपने टेस्ट करियर में कुल तीन बार एक मैच में पांच विकेट हॉल लेने के साथ शतक बनाया है। चेन्नई शतक लगाकर अश्विन ने गैरी सोबर्स और जैक कैलिस जैसे दिग्गजों का रिकॉर्ड तोड़ा है। इस सूची में पहले स्थान पर पूर्व दिग्गज इयान बॉथम हैं, जिन्होंने ये कीर्तिमान कुल पांच बार हासिल किया है।

इतना ही नहीं अपने घरेलू मैदान पर 106 रनों की पारी खेलकर अश्विन चेपॉक के मैदान पर शतक लगाने वाले तमिलनाडु के दूसरे क्रिकेटर बन गए हैं। इससे पहले पूर्व भारतीय सलामी बल्लेबाज क्रिस श्रीकांत 1986-87 में पाकिस्तान के खिलाफ 123 रनों की पारी खेलकर चेन्नई के स्टेडियम में शतक लगाने वाले तमिलनाडु के पहले खिलाड़ी बने थे।

इससे पहले अश्विन ने एक ही टेस्ट में पांच विकेट लेने के अलावा 50 रन या उससे अधिक की पारी खेलने के मामले में न्यूजीलैंड के महान ऑलराउंडर सर रिचर्ड हेडली की बराबरी की थी। ये छठा मौका था जब अश्विन ने एक ही टेस्ट में पांच विकेट लेने के अलावा 50 या उससे अधिक रनों की पारी खेली है। दुनिया के महानतम ऑलराउंडर्स में से एक माने जाने वाले सर हेडली ने भी अपने शानदार करियर के दौरान छह बार ये कारनामा किया था।

इस फेहरिस्त में सबसे आगे इंग्लैंड के पूर्व कप्तान बॉथम का है। बॉथम ने 11 बार ये कारनामा किया है। मौजूदा खिलाड़ियों में बांग्लादेश के ऑलराउंडर खिलाड़ी शाकिब अल हसन अब तक 9 मौकों पर यह कानामा कर चुके हैं। इसके बाद हेडली और अश्विन का नाम है। इस क्रम में पांचवें क्रम पर वेस्टइंडीज के महान तेज गेंदबाज मैल्कम मार्शल का स्थान है। मार्शल पांच बार ये कारनामा कर चुके हैं।

तीन खिलाड़ी इस फेहरिस्त में छठे स्थान पर हैं। भारत के ही स्टार ऑलराउंडर कपिल देव, न्यूजीलैंड के ऑलराउंडर क्रिस केयर्न्‍स और भारत के ही रवींद्र जडेजा ने अपने करियर में चार मौकों पर एक ही टेस्ट में पांच विकेट लेने के अलावा 50 या उससे अधिक रन बनाने का कारनामा किया है।