Rohit Sharma: I am ready for long-term captaincy
Rohit Sharma © Getty Images

एशिया कप में अपनी शानदार नेतृत्व क्षमता से भारतीय टीम को खिताबी जीत दिलाने के बाद रोहित शर्मा भारतीय टीम के स्थाई कप्तान बनने के लिए तैयार हैं। बांग्लादेश के खिलाफ फाइनल मैच के बाद मीडिया के सामने आए रोहित से जब ये पूछा गया कि वो लंबे समय के लिए भारतीय टीम की कप्तानी करने में दिलचस्प हैं या नहीं तो रोहित ने हंसते हुए कहा, “जरूर, हम अभी जीते हैं इसलिए मै तैयार हूं। जब भी मुझे मौका मिलेगा, मैं तैयार रहूंगा।”

महेंद्र सिंह धोनी से सीखे कप्तानी के गुर

टीम इंडिया के कोच रवि शास्त्री ने भी रोहित की तारीफ की है और उन्हें शांत स्वभाव का कप्तान बताया है। रोहित को ये सीख कैप्टन कूल महेंद्र सिंह धोनी से मिली है। धोनी के बारे में बात करते हुए रोहित ने कहा, “देखिए, हम हमेशा ही धोनी भाई से सीखते हैं क्योंकि वो इतने अच्छे कप्तान रहे हैं। जब भी हमे मैदान पर कोई परेशानी होती है तो वो हमेशा मदद के लिए तैयार रहते हैं। उन्हें इतने सालों तक कप्तानी करते देख मैने जो सीखा है वो ये कि वो कभी घबराते नहीं हैं, कोई भी फैसला लेने से पहले कुछ सेकेंड सोचते हैं, पहले सोचते हैं फिर कुछ निश्चित करते हैं, ये चीज हमारे बीच एक जैसी है। मुझे लगता है कि ये बात मुझमें भी है। मैं भी पहले सोचकर फिर प्रतिक्रिया देता हूं।”

रोहित ने आगे कहा, “आप 50 ओवर खेल रहे हो, आपके पास काफी समय है लेकिन जरूरी है कि समय का इस्तेमाल किया जाय। और मुझे लगता है कि ये मैने उन्हें इतने सालों तक देखकर सीखा है। उनकी कप्तानी में इतने साल खेलकर मैने बहुत कुछ सीखा है। जब भी जरूरत हो वो मदद करने और सलाह देने के लिए तैयार रहते हैं।”

रविंद्र जडेजा वनडे टीम के अहम खिलाड़ी

लंबे समय बाद वनडे टीम में वापसी कर रहे ऑलराउंडर रविंद्र जडेजा के बारे में बात करते हुए रोहित ने कहा, “मुझे नहीं लगता कि ये ब्रेक था, वो टीम से बाहर था। और जब आप टीम से बाहर होते हैं तो आपने मन में वापसी कर अपने आप को साबित करने की तीव्र इच्छा होती है। मुझे लगता है कि उसने इस टूर्नामेंट में ये साबित किया है कि वो पहले से कहीं ज्यादा बेहतर है। वो पहले मैच में आया, मुझे ठीक से याद है, वो उसी रात फ्लाइट से आया है और बांग्लादेश के खिलाफ मैच खेला और चार विकेट लिए। आज भी अगर आप देखें तो उसने 10 ओवर नहीं किए, उसकी बल्लेबाजी, उसकी फील्डिंग टीम के लिए बेहद अहम है।”

बांग्लादेश के खिलाफ फाइनल मैच में जडेजा ने केवल 6 ओवर कराए, जिसमें उन्हें एक भी विकेट नहीं मिला लेकिन उनकी तेज फील्डिंग के चलते भारतीय टीम मोहम्मद मिथुन को रन आउट करने में सफल रही। इस बारे में रोहित ने रहा, “आज उसने मैदान पर जो किया, वो रन आउट, मुझे लगता है कि वो टर्निंग प्वाइंट था। वो ऐसी चीज थी जो आपको मैच में वापसी का मौका देती है। वो रन आउट अहम था और वो जानता था। बतौर टीम हम भी जानते हैं कि वो किस तरह का खिलाड़ी है और वो टीम के लिए क्या कर सकता है। आज के मैच में उसकी बल्लेबाजी भी अहम थी, हालांकि उसने केवल 25 रन बनाए। अगर आप मैच के हालात के हिसाब से देखें तो मैं कहूंगा कि वो 50 रन के बराबर थे।”