Breaking News

    रुतुराज का शतक गया बेकार, शेल्डन के शतक से सौराष्ट्र ने जीती विजय हजारे ट्रॉफी

    रुतुराज का शतक गया बेकार, शेल्डन के शतक से सौराष्ट्र ने जीती विजय हजारे ट्रॉफी

    शेल्डन जैक्सन की नाबाद 133 रन की पारी के दम पर सौराष्ट्र ने शुक्रवार को विजय हजारे ट्रॉफी वनडे टूर्नामेंट के फाइनल में महाराष्ट्र को पांच विकेट से हराकर खिताब अपने नाम किया।

    Updated: December 2, 2022 6:50 PM IST | Edited By: Press Trust of India
    अहमदाबाद। अनुभवी बल्लेबाज शेल्डन जैक्सन की नाबाद 133 रन की पारी के दम पर सौराष्ट्र ने शुक्रवार को यहां विजय हजारे ट्रॉफी वनडे टूर्नामेंट के फाइनल में महाराष्ट्र को पांच विकेट से हराकर खिताब अपने नाम किया।

    सौराष्ट्र की इस जीत में जैक्सन के अलावा हरफनमौला चिराग जानी से भी गेंद और बल्ले से यादगार योगदान दिया। उन्होंने पहली पारी के 49वें ओवर में हैट्रिक विकेट चटकाने के बाद नाबाद 30 रन की पारी खेली। उन्होंने जैक्सन के साथ छठे विकेट के लिए 57 रन की अटूट साझेदारी की।

    पहले बल्लेबाजी का न्योता मिलने पर महाराष्ट्र की टीम कप्तान रुतुराज गायकवाड़ की लगातार तीसरी शतकीय पारी (131 गेंद में 108 रन) के बावजूद नौ विकेट पर 248 रन ही बना सकी। सौराष्ट्र ने 21 गेंद शेष रहते पांच विकेट गंवाकर मैच अपने नाम कर लिया। सौराष्ट्र की टीम 2007-08 के बाद दूसरी बार इस टूर्नामेंट की चैम्पियन बनी है।

    मैच का विजयी चौका जड़ने वाले जैक्सन ने 136 गेंद की नाबाद पारी में पांच छक्के और 12 चौके जड़े। उन्होंने पहले विकेट के लिए हार्विक देसाई (50 रन) के साथ 125 रन की साझेदारी कर टीम को शानदार शुरुआत दिलायी। छोटे लक्ष्य का पीछा करते हुए जैक्सन और देसाई ने बिना जोखिम लिये खेलते हुए स्कोरबोर्ड को चलायमान रखा।

    मैन ऑफ द मैच जैक्सन ने 17 ओवर में सत्यजीत बाचव (66 रन पर एक विकेट) की गेंद पर एक रन लेकर अपना पचासा पूरा किया फिर 21 ओवर में देसाई के एक रन के साथ दोनों की शतकीय साझेदारी पूरी हुई।

    अधिक सतर्कता के साथ खेल रहे देसाई ने 25वें ओवर में राजवर्धन हंगरगेकर (बिना किसी सफलता के 70 रन) के खिलाफ दो चौके लगाकर 61 गेंद में अपना अर्धशतक पूरा किया। मुकेश चौधरी ने पारी के 27वें ओवर में देसाई और जय गोहिल को आउट कर महाराष्ट्र को दोहरी सफलता दिलायी।

     

    सामर्थ्य व्यास (12), अर्पित वसावड़ा (15) और प्रेरक मंकड (एक) जल्दी-जल्दी आउट हो गये। इस बीच जैक्सन ने 37वें ओवर में बाचव पर दो छक्के जड़कर जरूरी रन गति को कम किया।

    सौराष्ट्र को आखिरी 10 ओवर में 57 रन चाहिए थे और उसके पांच विकेट बचे हुए थे। ऐसे में चिराग ने क्रीज पर आते ही आक्रामक बल्लेबाजी की और जैक्सन को दबाव मुक्त रखा। पारी की 47वें ओवर में मनोज इंगले (बिना किसी सफलता के 53 रन) की लगातार गेंदों पर छक्का और चौका लगाकर जैक्सन ने टीम को चैम्पियन बना दिया।

    इससे पहले महाराष्ट्र के लिए शानदार लय में चल रहे गायकवाड़ ने 131 गेंद की पारी में सात चौके और चार छक्के जड़े। पारी के 42 वें ओवर में उनके रन आउट होने के बाद टीम की बल्लेबाजी लड़खड़ा गयी। गायकवाड़ ने टूर्नामेंट में एक दोहरे शतक सहित 660 रन बनाये और टूर्नामेंट के सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी चुने गये।

    महाराष्ट्र के लिए अजीम काजी ने 37 और नौशाद शेख ने नाबाद 31 रन बनाये। इस बीच चिराग ने 49वें ओवर की शुरुआती तीन गेंदों पर सौरव नावले (13), हंगरगेकर (शून्य) और विक्की ओस्तवाल (शून्य) के विकेट चटकाये। कप्तान जयदेव उनदकट ने 10 ओवर में सिर्फ 25 रन खर्च किये और एक विकेट हासिल किया। महाराष्ट्र के तीन बल्लेबाज रन आउट हुए।
    Advertisement