Shakib Al Hasan: BCB president did not force me to play in the Asia Cup
Shakib Al Hasan (File Photo) © Getty Images

यूएई में खेले गए एशिया कप 2018 पर जहां भारतीय टीम ने सातवीं बार कब्‍जा जमाया, वहीं बांग्‍लादेश की टीम ने भी फाइनल तक का सफर तय किया। इस टूर्नामेंट के दौरान बांग्‍लादेश के कई सीनियर खिलाड़ी चोटिल हो गए। सबसे ज्‍यादा विवाद चोट के बावजूद भी ऑलराउंडर शाकिब अल हसन को खिलाने को लेकर हुआ।

टूर्नामेंट से पहले खबरे आ रही थी कि शाकिब एशिया कप का हिस्‍सा नहीं होंगे। इस दौरान वो अपनी उंगले के फ्रेक्‍चर का इलाज कराएंगे। प्रोथोम आलो से बातचीत के दौरान शाकिब अल हसन ने कहा, “एशिया कप में खेलने के लिए उनपर कभी दबाव नहीं बनाया गया था। मुझपर बोर्ड की तरफ से इस टूर्नामेंट में खेलने का कोई दबाव नहीं था। मुझे समझ नहीं आ रहा है कि इस मुद्दे पर इतना विवाद क्‍यों पैदा किया जा रहा है।”

शाकिब एशिया कप टूर्नामेंट बीच में ही छोड़कर वापस देश लौट गए थे। जिसके बाद तुरंत उनकी उंगली में फैले इन्फेक्शन के कारण ऑपरेशन कराना पड़ा था। 14 अक्‍टूबर को शाकिब ऑस्‍ट्रेलिया में उंगली का ऑपरेशन कराने के बाद वापस देश लौटे हैं।

शाकिब ने कहा, “मैं साफ कर दूं कि बोर्ड के प्रेसिडेंट ने मुझे कहा था कि अगर अाप सही महसूस कर रहे हो तभी टूर्नामेंट में खेलना। विश्‍व कप और चैंपियन्‍स ट्रॉफी के बाद एशिया कप सबसे बड़ा टूर्नामेंट है। ऐसे में मैं खुद ही इसका हिस्‍सा बनना चाहता था। मैंने अपने फीजियो से बातचीत के बाद टूर्नामेंट में खेलने का निर्णय लिया। उंगली में जो इन्‍फेक्‍शन हुआ उसकी किसी ने भी उम्‍मीद नहीं की थी। मुझे नहीं पता आखिर क्‍यों बार-बार मुझे विवादों में घसीट लिया जाता है।”