विराट कोहली तीसरे वनडे में अंत तक आउट नहीं हुए थे © Getty Images
विराट कोहली तीसरे वनडे में अंत तक आउट नहीं हुए थे © Getty Images

तीसरे वनडे मैच में जब रोहित शर्मा का विकेट गिरा तो बहुत ही कम लोगों ने इस बात की उम्मीद की थी नंबर चार पर बल्लेबाजी के लिए एमएस धोनी क्रीज पर आ जाएंगे। जब धोनी क्रीज पर आए तो भारत को जीत के लिए 241 रनों की दरकार थी। पिछले डेढ़ साल से इस बात पर लगातार संशय बना हुआ था कि धोनी कब अपने बल्लेबाजी क्रम में बदलाव करेंगे, लेकिन रविवार को धोनी ने सभी की आकाक्षाओं पर खरा उतरते हुए ना सिर्फ नंबर चार पर बल्लेबाजी की बल्कि शानदार 80 रनों की पारी खेल डाली।

धोनी की पारी ने एक बार फिर बहस छेड़ दी है कि क्या वनडे में धोनी को नंबर चार पर ही बल्लेबाजी करेंगे या नहीं। इस संबंध में बोलते हुए पूर्व कप्तान सौरव गांगुली ने कहा ‘मुझे नहीं पता कि धोनी ऊपरी क्रम में निरंतर बल्लेबाजी करेंगे या नहीं, मुझे लगता है कि कोच अनिल कुंबले को धोनी को ऊपर बल्लेबाजी करने के लिए कहना चाहिए। गांगुली ने कहा कि धोनी के करियर के लिए अब निचले क्रम में बल्लेबाजी करना सही नहीं है, धोनी जब नीचे खेलते हैं तो उनके पास सिर्फ 40-50 गेंद बचती हैं, जिसके कारण धोनी पिछले तीन साल से एक भी शतक नहीं लगा सके हैं।’ ये भी पढ़ें: महेंद्र सिंह धोनी और विराट कोहली में कौन है टीम का अच्छा फिनिशर?

गांगूली ने कहा कि मुझे लगता है कि निचले क्रम में खेलते हुए धोनी न सिर्फ अपनी योग्यता को नजरअंदाज कर रहे हैं बल्कि टीम के साथ भी यह बुरा है। यह बहुत ही अच्छा था और धोनी को बल्लेबाजी करते देखना अद्भुत लग रहा था। मुझे उम्मीद है कि धोनी ऊपरी क्रम में खेलेंगे और भारत को इसी तरह मैच जिताते रहेंगे।

वहीं कोहली के बारे में पूर्व कप्तान ने कहा कि कोहली ना सिर्फ शतक लगाते हैं बल्कि मैच जिताकर ही दम लेते हैं। रोहित शर्मा, धोनी और कोहली वनडे क्रिकेट के सबसे अच्छे खिलाड़ी हैं। मुझे नहीं मालूम कि धोनी ने भारतीय उपमहाद्वीप के बाहर कभी शतक जड़ा है लेकिन कोहली ने ऐसा कई दफा किया है, रोहित ने भी ऑस्ट्रेलिया में शतक जड़ा था। लेकिन कोहली के समकक्ष ये दोनों खिलाड़ी भी नहीं।