Team India’s bowling coach Bharat Arun favourite to retain his job, Sanjay Bangar under scanner
Sanjay Bangar with Bharat Arun

भारतीय क्रिकेट टीम के मौजूदा गेंदबाजी कोच भरत अरुण का पद पर बने रहना लगभग तय है जबकि दक्षिण अफ्रीकी धुरंधर जोंटी रोड्स समेत कई दावेदारों के होने के बावजूद आर श्रीधर को तरजीह दिए जाने की संभावना है ।

पढ़ें: प्रो कबड्डी लीग 2019 के मुंबई चरण के उद्घाटन में शिरकत करेंगे कोहली

बांगड़ की हो सकती है छुट्टी

राष्ट्रीय चयनकर्ता जब भारतीय टीम के लिए सहयोगी स्टाफ चुनेंगे तो बल्लेबाजी कोच संजय बांगड़ की छुट्टी हो सकती है।

तीनों (भरत अरुण, आर श्रीधर और संजय बांगड़) को मुख्य कोच रवि शास्त्री के साथ आगामी वेस्टइंडीज दौरे के आखिर तक कार्यकाल में विस्तार मिला है। इसके बाद नए सिरे से इंटरव्‍यू होंगे और सभी पदों के लिये नियुक्तियां की जाएंगी ।

कपिल देव की अध्यक्षता वाली नई क्रिकेट सलाहकार समिति मुख्य कोच के बारे में फैसला लेगी। चयनकर्ताओं को सहयोगी स्टाफ के लिए इंटरव्यू लेने को कहा गया है।

अरुण की जगह किसी और को तरजीह देना मुश्किल

करीबी सूत्रों की मानें तो अरुण का रहना तय है क्योंकि सभी प्रारूपों में भारतीय गेंदबाजों का प्रदर्शन अच्छा रहा है।

पढ़ें: Global T20 Canada 2019: इन 3 स्‍टार खिलाड़ियों पर रहेगी सबकी नजर

बोर्ड के एक सीनियर अधिकारी ने बताया, ‘पिछले 18 से 20 महीने से अरुण ने बहुत अच्छा काम किया है। मौजूदा भारतीय गेंदबाजी आक्रमण टेस्ट के लिए सर्वश्रेष्ठ है। मोहम्मद शमी फॉर्म में हैं और जसप्रीत बुमराह लगातार अच्छा प्रदर्शन कर रहे हैं जिसका श्रेय अरुण को जाता है। चयनकर्ताओं के लिए उनकी जगह किसी और को तरजीह देना मुश्किल होगा।’

मिडिल ऑर्डर को मजबूत नहीं बना सके बांगड़

बांगड़ के बारे में हालांकि ऐसा नहीं कहा जा सकता। कइयों का मानना है कि चार साल पद पर रहने के बावजूद वह मजबूत मध्यक्रम नहीं खड़ा कर सके।

अधिकारी ने कहा, ‘बांगड़ के आने से पहले भी रोहित शर्मा और विराट कोहली अच्छा प्रदर्शन कर रहे थे। उनकी सफलता में बांगड़ का कोई योगदान नहीं है। उनका काम मध्यक्रम को मजबूत बनाना था और विश्व कप में हमने देखा कि वह इसमें बुरी तरह नाकाम रहे।’

तीनों विशेषज्ञ कोचों में से अरुण का पद पर बने रहना तय है और श्रीधर भी चयनकर्ताओं की पसंद होंगे। उन्हें हालांकि रोड्स से कड़ी चुनौती मिलेगी।

अधिकारी ने कहा, रोड्स बड़ा नाम है और उनकी दावेदारी को अनदेखा नहीं किया जा सकता। हमें हालांकि टीम का अब तक फील्डिंग में प्रदर्शन भी देखना होगा।’