© Getty Images
© Getty Images

दक्षिण अफ्रीकी ऑलराउंडर डेविड वीज सीएसए टी20 चैलैंज के एक लीग मैच में खूब चर्चा में रहे। यह मैच नाइट्स और टाइटंस के बीच खेला गया। टॉस जीतने के बाद पहले बल्लेबाजी करने उतरी नाइट्स की शुरुआत बेहद खराब रही और उन्होंने 10 रनों पर ही अपने दो विकेट गंवा दिए। इसके बाद कप्तान डेविड मिलकर ने पारी संभाल ली और एकतरफा बेहतरीन बल्लेबाजी का मुजाहिरा पेश करते हुए 120 रन ठोंक दिए। इस तरह नाइट्स ने 20 ओवरों में 185/6 का स्कोर बनाया। गौर करने वाली बात है कि मैच में मिलर के शतक को लेकर ज्यादा चर्चा नहीं हुई बल्कि उनके टीम मेट डेविड वीज की ज्यादा चर्चा हुई। नाइट्स के तीसरे ओवर की अंतिम गेंद जब वीज ने फेंकी तो टेलीवीजन स्क्रीन पर उनकी रफ्तार 173.8 किमी./घंटा दिखाई गई।

 

टेलीवीजन स्क्रीन की माने तो वीज ने शोएब अख्तर की सबसे तेज गेंद फेंकने के रिकॉर्ड को तोड़ दिया। साधारणतया वीज 130 किमी./घंटा के आसपास की गेंदबाजी करते हैं। इस तरह यह बात किसी आश्चर्य से कम नहीं थी। लेकिन बाद में पता चला कि स्पीड तकनीकी खराबी के कारण इतनी ज्यादा दिखाई गई। इस बात के मजे लेने के लिए वीज ने ट्वविटर पर पोस्ट किया और मजाक करते हुए लिखा कि अंततः वह आधिकारिक रूप से तेज गेंदबाज हैं। शायद यह उनकी मेहनत जिसने उन्हें इतनी तेज गेंद फेंकने में मदद की। यह पहली बार नहीं है जब ऐसा देखने को मिला है। बल्कि कुछ महीने पहले मोर्ने मोर्केल की एक गेंद को 173.9 किमी./घंटा की रफ्तार के साथ रिकॉर्ड किया गया था।  [भारत बनाम इंग्लैंड, दूसरा टेस्ट, लाइव स्कोरकार्ड देखने के लिए क्लिक करें…]

टाइटंस ने नाइट्स के द्वारा दिए गए 186 रनों के लक्ष्य को 1 गेंद शेष रहते हुए प्राप्त कर लिया। इस तरह मिलर का शतक काम नहीं आ सका। टाइटंस के लिए हेनरिक क्लासन ने सर्वाधिक 30 गेंदों में 52 रन बनाए।