© Getty Images
© Getty Images

इंग्लैंड के कप्तान जो रूट ने एशेज के लगतार तीसरे टेस्ट में हार के बाद पर्थ में खराब प्रदर्शन करने वाले टीम के सीनियर खिलाड़ियों का बचाव किया। ऑस्ट्रेलिया ने वाका मैदान पर पारी और 41 रन से मैच जीत कर सीरीज में अजेय बढ़त बना ली लेकिन रूट ने कहा कि सीरीज के नतीजे पर उनकी टीम को जल्दबाजी में कोई फैसला नहीं करना चाहिये। इंग्लैंड के पूर्व बल्लेबाज केविन पीटरसन ने पर्थ में खराब गेंदबाजी करने वाले ब्रॉड की ओर इशारा करते हुये कहा कि टीम के एक गेंदबाज को बाहर करने की जरूरत है। पूर्व बल्लेबाल इयान बेल ने भी सीरीज में 13.83 कर औसत से महज 83 रन बनाने वाले पूर्व कप्तान एलेस्टर कुक को संन्यास लेने की सलाह दी।

रूट ने कहा कि मोइन अली और जेम्स एंडरसन के साथ ये दोनों खिलाड़ी टीम का अहम हिस्सा हैं। रूट से जब पूछा गया कि क्या कुक, ब्रॉड और एंडरसन एक साल बाद भी टीम में बने रहेंगे तो उन्होंने कहा, ‘‘उनके पास अनुभव की कोई कमी नहीं और उनका अब तक का प्रदर्शन उनकी प्रतिभा के बारे में बताता है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘ वे पहले भी ऐसी स्थिति में रहे है जब चीजें उनके अनुकूल नहीं रहीं है और इसलिये उनका करियर इतना बड़ा है। ऐसी कोई वजह नहीं है कि वे फिर से वापसी नहीं कर सकते।’’ रूट ने कहा, ‘‘ तीन मैचों के बाद हमें घबराने की जरूरत नहीं है और जल्दबाजी में कोई फैसला नहीं करना चाहिये।’’

ऑस्ट्रेलिया की जीत से गदगद हुए पूर्व क्रिकेटर, स्टीवन स्मिथ को दी जमकर बधाई
ऑस्ट्रेलिया की जीत से गदगद हुए पूर्व क्रिकेटर, स्टीवन स्मिथ को दी जमकर बधाई

इंग्लैंड की टीम में हार के बाद जहां आरोपों का दौर शुरू हो गया है वहीं दूसरी ओर ऑस्ट्रेलियाई खेमे में खुशी का माहौल है। जीत के बाद स्मिथ ने बयान दिया, ‘ऑस्ट्रेलिया की कप्तानी करना और फिर एशेज जीतना बहुत ही गजब की बात है। ये वो लम्हा है जिसे हासिल करने के लिए हम इतनी मेहनत कर रहे थे। जिस तरह से हमने सफलता हासिल की वो कमाल है। 400 रन अच्छा स्कोर था लेकिन हम मैदान पर उतरे और हमने बड़ा स्कोर बनाया। गेंदबाजों ने बहुत बड़ी भूमिका निभाई। नाथन लायन ने गजब की गेंदबाजी की। जोश हेजलवुड ने भी गजब की गेंदबाजी की।’