संजीव गोएनका-विराट कोहली © AFP
संजीव गोएनका-विराट कोहली © AFP

देश में खेल संस्कृति को बढ़ावा देने और नए खिलाड़ियों को पहचान दिलाने के मकसद से भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली और राइजिंग पुणे सुपरजायंट आईपीएल टीम के मालिक संजीव गोयनका ने मिलकर एक नई पहल की है। यह दोनों मिलकर देश के लिए बेहतरीन प्रदर्शन करने वाले खिलाड़ियों को स्कालरशिप और अवार्ड देकर सम्मानित करेंगे। यह स्कॉलरशिप विराट कोहली फाउंडेशन और आरपी-संजीव गोयनका ग्रुप द्वारा दी जाएगी।

इस मौके पर विराट ने कहा, “मैं हमेशा से मानता हूं कि सिर्फ एक खेल नहीं बल्कि एक खेल संस्कृति है जो पूरे देश में फैली हुई है। लेकिन उन्हें एक मंच चाहिए, पहचान चाहिए, उन्हें सुविधाएं चाहिए। इसलिए हमने सोचा की यह सही समय है जब इन खेलों और खिलाड़ियों को नई पहचान दी जाए। हम सिर्फ उन खिलाड़ियों का सम्मान नहीं करेंगे जो अच्छा प्रदर्शन कर रहे हैं, हम उन कोच का भी सम्मान करेंगे जो खिलाड़ियों की मदद कर रहे हैं। हम इस अवार्ड को बड़ा बनाना चाहते हैं।” [ये भी पढ़ें: श्रीलंका क्रिकेट बोर्ड ने बताया टॉस ‘हेराफेरी’ का सच]

विराट ने कहा कि उनका फाउंडेशन हर साल दो करोड़ रुपये की मदद करेगा, लेकिन यह मदद आने वाले दिनों में बढ़ भी सकती है। विराट ने अपने आप को अवार्ड पाने वाले खिलाड़ियों की सूची से दूर रखा है। विराट और संजीव के साथ इस मौके पर भारतीय बैडमिंटन टीम के कोच पुलेला गोपीचंद भी मौजूद थे।

संजीव ने इस मौके पर कहा, “मैं हमेशा से खिलाड़ियों की मदद करना चाहता था, विराट और गोपीचंद भी यही मानते हैं। यह पहल सिर्फ क्रिकेट के लिए नहीं है बल्कि सभी खेलों के लिए है। यह युवा खिलाड़ियों को खेल से जोड़ने और उन्हें बेहतर प्रदर्शन के लिए प्रेरित करने के लिए है।”