वीरेंद्र सहवाग © IANS
वीरेंद्र सहवाग © IANS

पूर्व क्रिकेटर वीरेन्द्र सहवाग ने ओलंपिक में क्रिकेट को शामिल किये जाने का समर्थन करते हुये कहा कि चार साल में होने वाले खेलों के इस महाकुंभ के लिये टी10 (10-10 ओवर का मैच) फॉर्मेट सही रहेगा। अपनी विस्फोटक बल्लेबाजी के लिये मशहूर सहवाग ने कहा, ‘‘ जब हम ओलंपिक में क्रिकेट की बात करते है तो मुझे लगता है टी10 सही फॉर्मेट होगा, क्योंकि मैच 90 मिनट में खत्म हो जायेगा, ये फुटबाल मैच की तरह होगा और नतीजे भी आयेंगे। अगर आईसीसी अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक समिति से क्रिकेट के बारे में बात करती है तो मुझे लगता है कि ये सही फॉर्मेट होगा।’’

सहवाग 14 से 17 दिसंबर तक UAE में खेली जाने वाली टी10 क्रिकेट लीग में ‘मराठा अरेबियंस’ टीम की कप्तानी करेंगे जिसमें श्रीलंका के कुमार संगाकारा के अलावा पाकिस्तान के मोहम्मद आमिर और कामरान अकमल भी हिस्सा लेंगे। इस कार्यक्रम में आज टीम की जर्सी को जारी किया गया। सहवाग ने कहा कि वो टी10 फॉर्मेट का समर्थन इसलिये भी कर रहे हैं क्योंकि इससे ज्यादा देश क्रिकेट से जुड़ेंगे। एक या दो मैच विजेता खिलाड़ियों के दम पर नतीजा आयेगा और रोमांचक मैच होगा।

एशेज के दूसरे टेस्ट मैच में भी इंग्लैंड पर 'जुबानी वार' करेगा ऑस्ट्रेलिया
एशेज के दूसरे टेस्ट मैच में भी इंग्लैंड पर 'जुबानी वार' करेगा ऑस्ट्रेलिया

उन्होंने कहा, ‘‘ मैं इसका समर्थन करता हूं क्योंकि इससे ज्यादा देश क्रिकेट से जुड़ेंगे और एक बल्लेबाज या एक गेंदबाज अपने दम पर मैच जिता सकता है। इसलिये हर देश से ऐसे एक-दो खिलाड़ी निकल सकते हैं जो अपने दम पर टी10 मैच जिता सकते हैं।’’ क्रिकेटर से कमेंटेटर बने सहवाग ने कहा, ‘‘ अब आईसीसी को सोचना है कि इसे ओलंपिक समिति के सामने रखे या नहीं। सभी छोटे देश भी जो टेस्ट मैच, चार दिवसीय, एक दिवसीय या टी20 क्रिकेट खेलते हैं वो टी10 क्रिकेट खेल सकते हैं और ओलंपिक का हिस्सा हो सकते हैं।’’