वीरेन्द्र सहवाग ने किंग्स इलेवन पंजाब का कोच बनने से इनकार कर दिया है © IANS
वीरेन्द्र सहवाग ने किंग्स इलेवन पंजाब का कोच बनने से इनकार कर दिया है © IANS

भारत के पूर्व विस्फोटक बल्लेबाज वीरेन्द्र सहवाग किंग्स इलेवन पंजाब के हेड कोच की भूमिका नहीं निभाएंगे। सहवाग ने टीम के मेंटोर की भूमिका को तवज्जो देते हुए किंग्स इलेवन पंजाब का कोच का कोच बनने से मना कर दिया है। पंजाब के पूर्व कोच संजय बांगर के इस्तीफा देने के बाद से सहवाग को टीम का कोच बनाने का प्रयास किया जा रहा था। मगर सहवाग ने टीम कोच बनने से इंकार करते हुए टीम के मेंटोर बने रहने का फैसला किया। इसका मतलब यह हुआ की पंजाब टीम के कोच की तलाश जारी रहेगी।

मुंबई मिरर में छपी रिपोर्ट के अनुसार पंजाब फ्रेंचाइजी किसी ऐसे खिलाड़ी को हेड कोच की भूमिका देना चाहती थी जिसने घरेलू क्रिकेट में अच्छा किया हो और उसे घरेलू क्रिकेट में खेल रहे खिलाड़ियों के बारे में जानकारी हो। ऐसे में सहवाग के नाम पर चर्चा थी कि वह टीम के कोच की भूमिका में आ सकते हैं। मगर सहवाग ने इस भूमिका को निभाने से इंकार कर दिया है। [Also Read: अनुराग ठाकुर को हटाए जाने का फैसला न्यायसंगत: जस्टिस लोढ़ा ]

सहवाग ने 2014 में दिल्ली डेयरडेविल्स फ्रेंचाइजी का साथ छोड़कर किंग्स इलेवन पंजाब का दामन थामा था। पिछले दो सालों से वह टीम के मेंटोर की भूमिका निभा रहे थे और वह आगे भी इसी पद पर रहना चाहते हैं। [Also Read: जब जश्न मनाने के चक्कर में विकेट लेना ही भूल गया विकेटकीपर]

गौरतलब है कि नवंबर में पंजाब के पूर्व कोच संजय बांगर ने कोच के पद से इस्तीफा दे दिया था। तब से पंजाब फ्रेंचाइजी टीम के नए कोच की तलाश में लगी हुई है। बांगर के इस्तीफे का कारण पिछले सीजन में टीम की सहमालिक प्रीति जिंटा से झगड़े को माना जा रहा है। टीम के खराब प्रदर्शन की वजह से दोनों के बीच बहस बाजी हुई थी।