अपनी कप्तानी में आईसीसी (ICC) के तीनों बड़े टूर्नामेंट जीतने वाले दुनिया के इकलौते कप्तान महेंद्र सिंह धोनी (Mahender Singh Dhoni) ने शनिवार (15 अगस्त 2020) को इंटरनेशनल क्रिकेट को अलविदा (Dhoni Retires) कह दिया था. धोनी ने मैदान पर धैर्य के लिए अपनी पहचान बनाई है. टीम इंडिया के पूर्व बल्लेबाज वीवीएस लक्ष्मण (VVS Laxman) ने ‘रांची के राजकुमार’ की सफलता के पीछे नतीजों से भावनात्मक रूप से अलग रहने को बताया है.

‘धोनी कभी नतीजों से भावनात्मक रूप से नहीं जुड़े’

लक्ष्मण (Very Very Special Laxman) ने स्टार स्पोर्ट्स के शो ‘क्रिकेट कनेक्टेड’पर कहा, ‘मुझे हमेशा से लगता है कि भारत की कप्तानी करना संभवत: किसी के लिए भी सबसे कड़ी चुनौती है क्योंकि दुनिया भर में सभी की आपसे इतनी अधिक उम्मीदें होती हैं. लेकिन महेंद्र सिंह धोनी कभी नतीजों से भावनात्मक रूप से नहीं जुड़ा रहा.’

उन्होंने कहा, ‘उसने खेल प्रशंसकों को ही नहीं बल्कि लाखों भारतीयों को प्रेरित किया और बताया कि किस तरह का आचरण करना चाहिए और कैसे अपने देश का दूत बनना चाहिए, सार्वजनिक जीवन में खुद को कैसे रखना चाहिए. और यही कारण है कि वह इतना सम्मानित है.’

लक्ष्मण ने कहा कि इस पूर्व विकेटकीपर बल्लेबाज ने अपने आचरण और खेल के प्रति योगदान से भविष्य की पीढ़ियों के लिए उदाहरण पेश किया.

सभी ने धोनी की दी बधाई 

बकौल लक्ष्मण, ‘क्रिकेट प्रशंसकों का प्यार आपकी क्रिकेट उपलब्धियों के लिए मिलता है लेकिन सम्मान इस चीज से मिलता है कि आपका आचरण कैसा रहा.’ लक्ष्मण ने कहा, ‘अगर आप सोशल मीडिया पोस्ट देखें तो सिर्फ पूर्व खिलाड़ियों या क्रिकेट प्रशंसकों ने ही टिप्पणी नहीं की बल्कि सभी भारतीयों ने की जिसमें फिल्मी सितारे, जाने माने उद्योगपति, राजनेता शामिल रहे. दुनिया भर के पूर्व क्रिकेटरों, क्रिकेट जगत ने भारतीय क्रिकेट ही नहीं बल्कि विश्व क्रिकेट में योगदान के लिए महेंद्र सिंह धोनी को शुक्रिया कहा.’