We are not machines, says an emotionless and tired Shreyas Iyer
Shreyas Iyer © AFP

फरवरी 2018 में आखिरी बार टीम इंडिया में खेलने नजर आए श्रेयस अय्यर का कहना है वो राष्ट्रीय टीम से बाहर होने की वजह से निराश नहीं है, दरअसल इस समय वो पूरी तरह का भावहीन हैं। इंडियन एक्सप्रेस से बातचीत में मुंबई के इस बल्लेबाज ने कहा, “आजकल मुझे कुछ महसूस नहीं होता है। कोई फीलिंग ही नहीं आ रहा है। मेरे लिए ये (टीम इंडिया में चयन होना) महत्वपूर्ण नहीं है। मैं भावनाहीन हूं। कोई आता है और कहता है कि मैं टीम में हूं, मैं टीम में नही हूं, कुछ फर्क नहीं पड़ता।”

राष्ट्रीय टीम से बाहर चल रहे अय्यर कुछ दिन के लिए भी खाली नहीं बैठे हैं। रणजी ट्रॉफी, विजय हजारे टूर्नामेंट में अय्यर ने लगातार प्रदर्शन किया है। उनका कहना है कि इस सब से वो काफी थक चुके हैं लेकिन किसी को इससे फर्क नहीं पड़ रहा है।

अय्यर ने कहा, “मेरा शरीर पूरी तरह थक चुका है, मानसिक तौर पर भी मैं थक गया हूं लेकिन कोई भी आराम करने के लिए नहीं कहेगा, किसी को फर्क नहीं पड़ता है। हम कोई मशीन नहीं हैं। ऐसा कोई नहीं है जो खिलाड़ियों से आराम करने के लिए कहे। हम दो साल से लगातार खेल रहे हैं। जरा सा ब्रेक नहीं मिलता। मैं 300 दिनों से घर से दूर हूं। जब मैं भारत में भी होता हूं तो भी घर नहीं होता।”

पिछले चार साल से टीम इंडिया में अपनी जगह पक्की करने की उम्मीद लगाए अय्यर ने कहा, “ये निराशा तो पिछले चार साल से है। होगा ही ना, किसी के साथ भी होगा। इसलिए मैंने इस बारे में ना सोचने का फैसला किया है।”

उन्होंने आगे कहा, “मैंअपने आपको एक बड़े बल्लेबाज के तौर पर देखता हूं। मैंने बहुत लंबे समय पहले अपने मन में ये छवि बनाई थी।” अय्यर को ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड के खिलाफ वनडे सीरीज में भी जगह नहीं मिली है।”