पूर्व दक्षिण अफ्रीकी ऑलराउंडर लांस क्लूजनर (Lance Klusner) का मानना है कि आगामी टी20 विश्व कप में टीम इंडिया में कप्तान विराट कोहली (Virat Kohli) की आक्रामकता और महेंद्र सिंह धोनी (MS Dhoni) के अनुभव का कॉम्बिनेशन देखने को मिलेगा।

टीम इंडिया ने धोनी की अगुवाई में साल 2007 में पहला टी20 विश्व कप जीता था। इसी वजह से पूर्व कप्तान धोनी को आगामी विश्व कप टूर्नामेंट के लिए भारतीय टीम का मेंटोर नियुक्त किया है।

टाइम्स ऑफ इंडिया से बातचीत में इस बारे में पूर्व क्रिकेटर ने कहा, “महेंद्र सिंह धोनी जैसे किसी का ड्रेसिंग रूम में खिलाड़ियों साथ होना अच्छा है जो कि विश्व कप जीत चुके हैं। हालांकि विराट कोहली की अपना अलग अंदाज है और उसकी कप्तानी का तरीका अलग है। हम विश्व कप में धोनी के अनुभव और कोहली की आक्रामकता का कॉम्बिनेशन देखेंगे। उनके पास किसी भी टीम के बराबर जीतने की उम्मीद है।”

क्या भारत ट्रॉफी जीत पाएगा इस बारे में उन्होंने कहा, “पिछले दस सालों में भारतीय टीम ना केवल घर पर बल्कि विदेशों में प्रतियोगिता कर पाने में कामयाब हुई है, ये उनकी काबिलियत है। और मेरे लिए, इससे एक बड़ा अंतर पैदा हुआ है। उनके बल्लेबाज विदेशों में रन बनाने में कामयाब हुए हैं। किसने सोचा था कि भारत के पास दुनिया का सर्वश्रेष्ठ पेस अटैक होगा। मैं इस भारतीय टीम का बहुत सम्मान करता हूं, वो जहां से आए हैं और अब कहां पहुंच गए हैं।”

बतौर मेंटोर टीम इंडिया में धोनी का क्या प्रभाव पड़ेगा इस पर क्लूजनर ने कहा, “ये अलग होता है। ये थोड़ा बहुत कोचिंग जैसा ही होता है। आप सही बातें बोल सकते हैं और सही तरह से तैयारी करवा सकते हैं लेकिन आखिर में बात मैदान पर उतरने वाले 11 खिलाड़ियों पर भी निर्भर है। जैसे ही टीम मैदान पर उतरी है, बतौर कोच या मेंटोर आप कुछ ज्यादा नहीं कर सकते हैं।”

पूर्व क्रिकेटर ने आगे कहा, “आपको कई लोगों से आगे बढ़कर जिम्मेदारी लेने की संभावना पर निर्भर रहना होता है। इसिलए धोनी का अनुभव बेशक वहां होगा। वो उन्हें सभी जानकारियां दे सकेंगे लेकिन जैसे ही 11 खिलाड़ी मैदान पर उतरेंगे, आप भी दर्शकों की तरह केवल बाहर से देख सकते हैं।”