आईपीएल 2017 के सबसे महंगे खिलाड़ी © Getty Images and AFP images
आईपीएल 2017 के सबसे महंगे खिलाड़ी © Getty Images and AFP images

आईपीएल 2017 का आधा सीजन गुजर चुका है। अभी तक खेले गए 21 मैचों में कई खिलाड़ियों ने जहां धमाल मचा दिया तो कई खिलाड़ी आशा के अनुरूप प्रदर्शन नहीं कर पाए। लेकिन इस बीच उन खिलाड़ियों के प्रदर्शन के बारे में चर्चा करना अपरिहार्य हो जाता है जिन्हें सबसे ज्यादा दाम देकर खरीदा गया। हमने इस लिस्ट में कुल छह विदेशी खिलाड़ियों को शामिल किया है और उनके प्रदर्शन का अबतक का लेखा जोखा आपके सामने पेश कर रहे हैं। जिससे आपको मोटा- मोटा अंदाजा लग जाएगा कि इन खिलाड़ियों को महंगे दामों में खरीदना इनकी फ्रेंचाइजियों के लिए राहत देने वाला रहा या नहीं।

बेन स्टोक्स: हम सबसे पहले बात करते हैं इस टूर्नामेंट के सबसे महंगे खिलाड़ी बेन स्टोक्स के बारे में। स्टोक्स को राइजिंग पुणे सुपरजायंट ने 14.5 करोड़ रुपए में खरीदा था। इस तरह से उनसे आशाएं भी बहुत थीं। लेकिन अबतक उनके आईपीएल प्रदर्शन पर नजर दौड़ाएं तो वह अपनी अपेक्षाओं पर बिल्कुल भी खरे नहीं उतरे और लगातार फेल हुए हैं। अबतक खेले गए पांच मैचों में उन्होंने 138.88 के स्ट्राइक रेट से 100 रन बनाए हैं और 36.25 के गेंदबाजी औसत के साथ 4 विकेट लिए हैं। इस दौरान उनका इकॉनमी रेट 7.63 रहा है। इन पांच मैचों में उन्होंने टीम की जीत में एक बार योगदान दिया है। इस तरह से स्टोक्स का एक विकेट 65 लाख रुपए और एक रन 3 लाख रुपए का पड़ा है।

बल्लेबाजी में उनकी कमी की बात करें तो वह अक्सर तेज गेंदबाजों के द्वारा गेंदों के पेस में बदलाव करने के कारण परेशानी में आते दिखाई दिए और अपना विकेट गंवाया। इसके अलावा शॉर्ट गेंद को पुल करने के दौरान वह आउट हुए। वहीं गेंदबाजी की बात करें तो टूर्नामेंट की शुरुआत में स्टोक्स ने कई गेंदें गुड लेंथ या शॉर्ट डालीं। वहीं कई बार शॉर्ट गेंद फेंकने चक्कर में उन्होंने कई वाइड गेंदें भी फेंकी। यही कारण रहा कि चार मैचों के बाद उनका गेंदबाजी औसत गड़बड़ा गया। वैसे अपने पांचवें मैच में वह रंग में नजर आए और गेंद से अच्छा प्रदर्शन करते हुए 18 रन देकर 3 विकेट झटके। इस दौरान उन्होंने लगातार स्टंप्स पर गेंदें डालीं और इसका उन्हें फायदा मिला। [ये भी पढ़ें: आईपीएल 10: क्या मजबूत सनराइजर्स हैदराबाद को टक्कर दे पाएगी राइजिंग पुणे सुपरजायंट?]

टाइमल मिल्स: इंग्लैंड के तेज गेंदबाज टाइमल मिल्स इस सीजन के दूसरे सबसे महंगे खिलाड़ी हैं। उन्हें रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर ने 12 करोड़ रुपए देकर खरीदा था। इस दौरान उनका इकॉनमी रेट 8.81 रहा और वह चार पारियों में 3 विकेट ही ले पाए। वहीं उन्होंने ऐसा कोई प्रदर्शन नहीं किया जिसने उनकी टीम की जीत में योगदान दिया हो। इस तरह मिल्स का हर विकेट उनकी टीम के लिए 1.7 करोड़ रुपए का पड़ा। मिल्स के साथ परेशानी ये रही कि उनकी गति में परिवर्तन वाली गेंदों को बल्लेबाज आसानी से पढ़ पा रहे थे।

आरीसीबी बनाम एसआरएच मैच में एक ऐसी ही गेंद पर युवराज सिंह ने पिछले कदमों पर जाकर स्क्वेयर लेग के ऊपर से छक्का लगाया था। ऐसा ही कुछ दिल्ली डेयरडेविल्स के ऋषभ पंत ने किया था। वहीं मुंबई इंडियंस के खिलाफ मैच में क्रुणाल पांड्या और हार्दिक पांड्या ने उनकी इन्हीं गेंदों पर चौके लगाए थे। टाइमल मिल्स शॉर्ट गेंदें फेंकते तो हैं लेकिन उनमें खास उछाल नहीं होती है जिससे बल्लेबाज आसानी से पुल शॉट लगा देता है और यही कारण है कि उन्होंने लेग साइड में खूब रन खाए हैं।

ट्रेंट बोल्ट: न्यूजीलैंड के तेज गेंदबाज ट्रेंट बोल्ट को इस साल कोलकाता नाइटराइडर्स ने 5 करोड़ रुपए में खरीदा था। उन्होंने अब तक चार पारियों में दो विकेट लिए हैं और रन तो उन्होंने खूब लुटाए हैं। उनका इकॉनमी रेट 9.85 का रहा है जो खुद की कहानी साफ शब्दों में बयां करता है। इस तरह बोल्ट का हर विकेट उनकी टीम के लिए 1 करोड़ रुपए का पड़ा है। गौर करें कि बोल्ट ने अभी तक ऐसा कोई प्रदर्शन नहीं किया है जिसने उनकी टीम की जीत में कोई योगदान दिया हो। बोल्ट की अबतक की गेंदबाजी को देखें तो, या उन्होंने भटकी हुई लाइन में गेंदें डाली हैं या बहुत फुल लेंथ वाली गेंदें डाली हैं।

वहीं बोल्ट की गेंदों पर कई खराब फील्डिंग भी देखने को मिली हैं। उनकी गेंदों पर तीन कैच छूटे और कई मिसफील्ड के कारण भी वह अपनी टीम के लिए विजेता नहीं बन सके। मुंबई इंडियंस के खिलाफ मैच में वह अंतिम ओवर फेंकने को आए जिसमें मुंबई को 11 रन बनाने थे जिसमें एक मिसफील्ड का चौका चला गया और बाद में एक कैच छोड़ दिया गया और इस तरह उनकी टीम मैच हार गई।

क्रिस वोक्स: इंग्लैंड के तेज गेंदबाज क्रिस वोक्स को इस सीजन के लिए कोलकाता नाइटराइडर्स ने 4.25 करोड़ रुपए में खरीदा था। उन्होंने अभी तक 5 पारियों में 6 विकेट लिए हैं। इस दौरान उनका गेंदबाजी औसत 29.83 का, वहीं इकॉनमी रेट बेहद खराब 9.94 का रहा है। हालांकि, वह अबतक कोई खास प्रदर्शन नहीं कर पाए जिससे उनकी टीम को जीत मिली हो। इस तरह से उनका हर विकेट उनकी टीम के लिए 29.5 लाख रुपए का पड़ा है। वोक्स ने कई यॉर्कर फेंकने की कोशिश कीं लेकिन इनमें से ज्यादातर फुलटॉस बन गईं और उन्होंने खूब रन खाए। बोल्ट की ही तरह वोक्स को भी नाइटराइडर्स की खराब फील्डिंग का खामियाजा भुगतना पड़ा। उनकी गेंदों पर दो कैच छोड़े गए और कई रन मिसफील्ड के कारण बने। वोक्स को केकेआर में आंद्रे रसेल की जगह टीम में लिया गया था। लेकिन उन्हें केकआर के शीर्ष स्तर की अच्छी बल्लेबाजी के कारण अबतक बल्लेबाजी करने का मौका नहीं मिला है। अगर भविष्य में मिलता है तब ही बताया जा सकेगा कि उन्होंने अपने मूल्य के साथ न्याय किया कि नहीं।

पैट कमिंस: ऑस्ट्रेलिया के तूफानी गेंदबाज पैट कमिंस को इस सीजन में दिल्ली डेयरडेविल्स ने 4.5 करोड़ रुपए देकर खरीदा था। उन्होंने अब तक 5 पारियों में 7 विकेट लिए हैं। इस दौरान उनका इकॉनमी रेट 7.93 का रहा है। वहीं उन्होंने एक बार अपनी टीम की जीत में अहम भूमिका अदा की है। इस तरह उनका एक विकेट उनकी टीम के लिए 23 लाख रुपए का पड़ा है। इस आईपीएल में पैट कमिंस ने बल्लेबाजों को अपनी तेजी और उछाल से खासा परेशान किया है। वह इस टूर्नामेंट के सबसे तेज गेंदबाज हैं और 155कि.मी./घंटा के रफ्तार वाली गेंद फेंक चुके हैं। उन्होंने सात में से एक विकेट ही 140 कि.मी./घंटा से धीमी वाली गेंद पर लिया है। उन्होंने शॉर्ट या गुडलेंथ गेंदों पर ज्यादा विकेट लिए हैं।

राशिद खान: अफगानिस्तान के राशिद खान को इस सीजन में सनराइजर्स हैदराबाद टीम ने 4 करोड़ की मोटी रकम देकर खरीदा था। उनका इस टूर्नामेंट में अब तक का प्रदर्शन शानदार रहा है। अब तक उन्होंने 6 पारियों में 9 विकेट लिए हैं। इस दौरान उनका इकॉनमी रेट 7.41 का रहा है और उन्होंने अपनी टीम की तीन जीतों में अहम भूमिका निभाई है। इस तरह उनकी टीम के लिए उनका एक विकेट 18.5 लाख रुपए का पड़ा है जो अच्छा सौदा है। राशिद गुजरात लायंस के खिलाफ मैच में मैन ऑफ द मैच रहे। वहीं किंग्स इलेवन के खिलाफ जीत में भी राशिद ने अच्छी भूमिका निभाई।

बल्लेबाज अबतक राशिद की विविधताओं को पढ़ने में खासे असहज नजर आए हैं। उन्होंने 9 में से 5 विकेट गुगली पर लिए हैं। इनमें तीन टॉप स्पिन पर और एक स्टॉक बॉल पर लिया है। उन्होंने लगातार गेंदों में विविधता दिखाई और बल्लेबाज को टिकने का मौका ही नहीं दिया इसके अलावा राशिद ने हवा में गेंदों को तेज रफ्तार से फेंका है जिससे बल्लेबाज को उन्हें पढ़ने में खासी दिक्कतें हुईं। उन्होंने ज्यादातर गेंदें 90 से 100 कि.मी./घंटा की रफ्तार से फेंकी हैं।