टीम बांग्लादेश ©AFP
टीम बांग्लादेश ©AFP

क्रिकेट की दुनिया में बांग्लादेश मजबूत टीमों में से एक गिनी जाती है। पिछले कुछ वर्षो में इस टीम ने अपनी बेहतरीन प्रदर्शन के दम पर अन्तर्राष्ट्रीय क्रिकेट में विशेष जगह बनायीं है। बांग्लादेश ने एशिया कप टी20 में अपना पहला मैच भारत के हाथों भले ही गवां दिया था लेकिन उसने शानदार वापसी करते हुए पहले मैच में युएई को 51 रनों से हराया फिर दूसरे मैच में श्रीलंका को 23 रनों से मात दिया अपने चौथे और बड़े मैच में पाकिस्तान जैसी बड़ी टीम को धुल चटाई और 5 विकेट से जीत अपने नाम किया। इस तरह मेजबान बांग्लादेश ने तमाम चुनौतियों का सामना करते हुए एशिया कप के फाइनल में अपनी जगह बनायीं और अपने आपको एशिया कप का दावेदार बना लिया तो आइए जानते हैं क्या बांग्लादेशी टीम, इंडिया को कड़ी चुनौती देते हुए फाइनल मैच जीत सकती है- ये भी पढ़ें: टीम इंडिया ने युएई के खिलाफ जीता अपना चौथा मैच, ये रहे जीत के चार कारण

आक्रामक गेंदबाजी – बांग्लादेशी गेंदबाजों ने एशिया कप के मैचों में बेहतरीन गेंदबाजी का प्रदर्शन किया है। क्रिकेट जगत में इस समय बांग्लादेशी टीम के गेंदबाजी को सबसे मजबूत माना जा रहा है। उन्होंने कमाल का प्रदर्शन किया है। अपने सही दिशा और सटीक गेंदबाजी के लिए पहचाने जाने वाली टीम को भारत के खिलाफ सबसे मजबूत प्रतिद्वंदी कहना बिल्कुल सही होगा। बांग्लादेशी कप्तान मशरफे मुर्तजा और तस्कीन अहमद ने कमाल की गेंदबाजी की है। दोनों ही गेंदबाजों ने पाकिस्तान के खिलाफ एक एक विकेट लिया था। मुस्ताफिजुर रहमान और शाकिब अल हसन ने भी बढ़िया गेंदबाजी की है। वहीं तस्कीन अहमद ने भी पूरे सीरीज में बढ़िया गेंदबाजी करते हुए विकेट लिए हैं। ये भी पढ़ें: शादी के बंधन में बंधे रॉबिन उथप्पा

शाकिब अल हसन- अगर बात करें तो बांग्लादेशी टीम के बल्लेबाजी की तो मोहम्मद अशरफुल, हबीबुल बशर और अब्दुर रज्जाक जैसे बल्लेबाजों की वजह से बांग्लादेशी टीम ने अन्तरराष्ट्रीय क्रिकेट में अपनी विशेष जगह बनाई है। लेकिन इन सभी में शाकिब ने अपने प्रदर्शन के दम पर बांग्लादेशी टीम में अपनी विशेष जगह बनाई है। वैसे शाकिब एक ऑल राउंडर है जो बल्ले के साथ ही साथ गेंद से भी कमाल दिखाने में माहिर है। आईसीसी द्वारा शाकिब को नंबर 1 ऑल राउंडर भी घोषित किया गया। इनके पास टीम के लिए कठिन परिस्थितियों में रन बनाने और विकेट लेने की अनूठी क्षमता है। ये भी पढ़ें: एक दूसरे के हुए धवल कुलकर्णी और श्रद्धा

बल्लेबाजी- बांग्लादेशी टीम के बल्लेबाजों ने एशिया कप में बढ़िया प्रदर्शन किया है। जिसके बदौलत टीम ने एशिया कप के फाइनल में जगह बनाई। सलामी बल्लेबाजों में शब्बीर रहमान और सौम्या सरकार ने बढ़िया बल्लेबाजी की है। भारत के खिलाफ शब्बीर ने 32 गेंदों में 44 रन बनाए थे। मोहम्मद मिथुन ने भी अपने बल्ले से रन उगला है। युएई खिलाफ मिथुन ने 47 रन 41 में बनाए थे। वहीं सोम्या सरकार ने ताबड़तोड़ बल्लेबाजी करते हुए 14 गेंदों में 21 रन बना डाले थे। इस तरह बांग्लादेश के पास अच्छे बल्लेबाजों की कमी नहीं है।

मुर्तजा की कप्तानी- मशरफे मुर्तजा के शानदार कप्तानी के बदौलत बांग्लादेशी टीम एशिया कप के फाइनल में अपनी जगह बनाने में कामयाब हो पाई है। मुर्तजा ने अक्सर टीम के लिए सही फैसला लिया हैं। टॉस जीतकर पहले क्या करना उपयुक्त होगा ये उन्होंने चुना। जो कि टीम के जीत के लिए काफी महत्वपूर्ण रहा उनके सही फैसलों के कारण ही टीम फाइनल में जगह बना सकी।

बेहतरीन कोच- हीथ स्ट्रीक ने बांग्लादेशी गेंदबाजी को और ज्यादा बेहतर बना दिया है। उनके सानिध्य में गेंदबाजी और ज्यादा निखरी है। एक बढीयां कोच पाकर टीम का आत्मविश्वास बढ़ा है। स्ट्रीक ने गेंदबाजों पर ज्यादा मेहनत करते हुए उनकी गेंदबाजी में काफी सुधार किया है। गेंदबाजों ने सटीक गेंदबाजी करना शुरू कर दिया है। योर्कर, कटर और गुड लेंथ की गेंदबाजी में सुधार हुआ है जिनसे वे ज्यादा विकेट ले सकते हैं।