किंग्स इलेवन पंजाब बनाम गुजरात लायंस © AFP
किंग्स इलेवन पंजाब बनाम गुजरात लायंस © Getty Images

गुजरात लायंस और किंग्स इलेवन पंजाब दोनों टीमों ने अबतक छह मैचों में से दो में ही जीत दर्ज की है। ऐसे में अगर उन्हें प्वाइंट टेबल में अपनी स्थिति मजबूत करनी है तो उन्हें जीत की बहुत जरूरत है। हालांकि, ऐसा कतई नहीं है कि इन दोनों टीमों के दरवाजे बंद हो चुके हैं। क्योंकि अभी भी उन्हें 8 मैच और खेलना बाकी है। ऐसे में वे आसानी से टूर्नामेंट में वापसी कर सकते हैं। केकेआर के खिलाफ ईडेन गार्डन में शानदार जीत दर्ज करने के बाद गुजरात लायंस ने अंततः इस बात को जाहिर तो कर दिया है कि वह धीरे- धीरे ही सही जीत के ट्रैक पर वापस आ रहे हैं। वहीं दूसरी ओर लगातार चार हार झेलने के बाद किंग्स इलेवन पंजाब जीत की राह में लौटने को बेताब होगी।

गुजरात लायंस: गुजरात लायंस ने पिछले कुछ मैचों में अपनी ओपनिंग जोड़ी के साथ कई तब्दीलियां की हैं। पहले जेसन रॉय को आजमाया गया फिर ड्वेन स्मिथ को आजमाया। लेकिन ये दोनों फेल रहे। अब जाकर कप्तान रैना ने मैक्कलम के साथ एरन फिंच को आजमाया है। पिछले मैच में फिंच ने मैक्कलम के साथ मिलकर टीम को तूफानी शुरुआत दिलाई थी और इसी शुरुआत ने मैच में फर्क पैदा कर दिया और अंततः जीत लायंस के हाथों लगी। उम्मीद है कि अगले मैचों में भी दोनों बल्लेबाज अपनी टीम को ऐसी ही शुरुआत दिलवाएंगे। वहीं, मध्यक्रम में कप्तान सुरेश रैना धमाकेदार बल्लेबाजी कर रहे हैं। लेकिन चिंता का सबब अन्य बल्लेबाजों दिनेश कार्तिक, रविंद्र जडेजा के बल्ले से रन न निकलना है जिससे टीम पर दबाव बढ़ जाता है। ऐसे में इस कमी को पाटने के लिए लायंस को एक अच्छी योजना बनाने की जरूरत है।

लायंस टीम का गेंदबाजी आक्रमण कुछ खास नहीं है। पहले दो मैचों में हार झेलने के बाद रविंद्र जडेजा की वापसी से उनकी टीम को ढाढ़स तो बंधा था लेकिन जडेजा अपनी फॉर्म में नही हैं और उनके आने से टीम को कुछ खास फायदा नहीं हुआ है। इसके अलावा ड्वेन ब्रावो की वापसी को लेकर भी चर्चाएं हो रही हैं। अगर ऐसा होता है तो उनकी टीम को काफी राहत मिलने वाली है। पिछले मैच में लायंस ने एंड्रयू टाय को बाहर करते हुए टीम में जेम्स फॉकनर को शामिल किया था। जिसने उनकी गेंदबाजी को मजबूत बना दिया और बासिल थांपी के साथ मिलकर उन्होंने डेथ ओवरों में बहुत कम रन दिए और यही कारण रहा कि कि केकेआर 200 पार नहीं जा पाया। लायंस टीम ड्वेन स्मिथ की जगह एंड्रयू टाय को टीम में शामिल कर सकती है।

गुजरात लायंस की संभावित प्लेइंग इलेवन: ब्रैंडन मैक्कलम, एरन फिंच, सुरेश रैना(कप्तान), दिनेश कार्तिक(विकेटकीपर), ईशान किशन, रविंद्र जडेजा, जेम्स फॉकनर, ड्वेन स्मिथ/ एंड्रयू टाय, धवल कुलकर्णी, प्रवीण कुमार, बासि थाम्पी।

किंग्स इलेवन पंजाब: किंग्स इलेवन पंजाब ने इस सीजन की शुरुआत दो बेहतरीन जीत के साथ की थी। लेकिन उसके बाद से वह लगातार मैच हार रहे हैं। ये देखा गया है कि अगर उनके बल्लेबाज अच्छा प्रदर्शन करते हैं तो उनके गेंदबाज खराब प्रदर्शन करके हर चीज खराब कर देते हैं वहीं अगर गेंदबाज अच्छा प्रदर्शन करते हैं तो उनकी बल्लेबाजी भरभरा जाती है। इस बात से पंजाब के कप्तान ग्लेन मैक्सवेल भी खासे परेशान हैं। उन्होंने तो ये तक कह दिया था, “शायद एक ऐसा समय आएगा, जब मैं अनकैप्ड खिलाड़ियों को टीम में जगह दूंगा जो योजना लागू करने और उसमें अपना सहयोग देने को तैयार हों।”

लायंस की ही तरह उन्हें भी अपने गेंदबाजी विभाग को मजबूत करने की जरूरत है। अनुभवी होने के बावजूद ईशांत शर्मा, संदीप शर्मा और मोहित शर्मा अपनी प्रतिभा के साथ न्याय नहीं कर पाए हैं। वैसे मुंबई इंडियंस के खिलाफ मैच में जहां मुंबई ने 27 गेंदें शेष रहते हुए 199 रनों के स्कोर का पीछा कर लिया वहां गेंदबाजों की गलती नहीं थी बल्कि पिच ही ऐसी थी जिसपर गेंदबाजों को मार खानी पड़ रही थी। इस मैच में लसिथ मलिंगा और मिचेल मैकलेनिघन जैसे गेंदबाज भी बल्लेबाजों को रोक नहीं पा रहे थे। ऐसे में किंग्स इलेवन पंजाब के गेंदबाजों को दोष देना गलत होगा। दोनों टीमों के लिए समस्या ये है कि दोनों को आगे के मैच बैटिंग को मदद देने वाली पिच पर खेलने हैं। अब ऐसे ये मायने नहीं रखता कि कितने भी धमाकेदार बल्लेबाजी करने वाले बल्लेबाज आपके पास हों, आपको मैच में जीत आपका गेंदबाजी विभाग ही दिलवाएगा। इसके अलावा टॉस जीतना सबसे महत्वपूर्ण हो गया है। जो टीम टॉस जीतती है उसे फायदा मिलता है। पंजाब टीम गेंदबाजी विभाग में एक परिवर्तन कर सकती है। वे ईशांत शर्मा या मोहित शर्मा की जगह वरुन अरोन को शामिल कर सकते हैं।

किंग्स इलेवन पंजाब की संभावित प्लेइंग इलेवन: हाशिम अमला, शॉन मार्श, रिध्दिमान साहा(विकेटकीपर), ग्लेन मैक्सवेल, मार्कस स्टोइनिस, गुरकीरत सिंह, अक्षर पटेल, स्वप्निल सिंह, मोहित शर्म/वरुण आरोन, संदीप शर्मा, ईशांत शर्मा।

क्या कहते हैं आंकड़े: किंग्स इलेवन पंजाब का अंतिम ओवरों(16- 20) में सबसे खराब रन रेट है। इस दौरान उन्होंने 9.09 के हिसाब से रन बनाए हैं। लेकिन रन लुटाने के मामले में वे सबसे आगे हैं और उन्होंने 12.41 के रन रेट से इन ओवरों में रन लुटाए हैं। गुजरात लायंस ने जब पहले बल्लेबाजी की है तो उन्होंने पिछले सात मैच हारे हैं। वहीं किंग्स इलेवन अपने अंतिम चार हारे हैं।