Momemt in History: A ‘very special day’ for cricket as England set new ODI world record against Australia
एलेक्स हेल्स, जॉनी बेयरस्टो © Getty Images

19 जून 2018 को यानि कि आज से ठीक दो साल पहले एक ऐसा मैच खेला गया था, जिसने वनडे क्रिकेट की रूप-रेखा बदल दी थी। ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ नॉटिंघम में खेले गए वनडे मैच में मेजबान इंग्लैंड टीम ने 481 रन बनाए थे जो कि वनडे क्रिकेट में आज तक का सबसे बड़ा स्कोर है। इंग्लैंड ने नॉटिंघम में बनाए अपने ही 444 रन के स्कोर का रिकॉर्ड तोड़ा था।

ट्रेंट ब्रिज स्टेडियम में हुए इस मैच में ऑस्ट्रेलियाई टीम ने टॉस जीतकर इंग्लैंड को बल्लेबाजी का न्यौता दिया। सलामी बल्लेबाज जेसन रॉय ने जॉनी बेयरस्टो के साथ मिलकर पहले विकेट के लिए 159 रन की मजबूत साझेदारी बनाई और एक बड़े स्कोर की नींव रखी।

ऑस्ट्रेलियाई गेंदबाज इस सलामी जोड़ी को रोकने में पूरी तरह नाकाम रहे। हालांकि उन्हें 20वें ओवर में एक सफलता मिली जब रॉय डार्सी शॉर्ट और कप्तान टिम पेन के साझे प्रयास की वजह से रन आउट हुए। लेकिन कंगारू टीम की मुसीबत कम नहीं हुई क्योंकि मैदान पर उतरे एलेक्स हेल्स ने बेयरस्टो के साथ मिलकर रिकॉर्डतोड़ साझेदारी बनाई।

हेल्स-बेयरस्टो ने दूसरे विकेट के लिए 151 रन जोड़े। इस बीच बेयरस्टो ने अपना शतक पूरा किया, बेयरस्टो ने 69 गेंदो पर 100 रन बनाए। दूसरी तरफ हेल्स भी माक्र 41 रन पर अर्धशतक बड़े स्कोर की तरफ बढ़ रहे थे। उन्होंने 62 गेंदो पर अपना शतक पूरा किया।

ऑस्ट्रेलियाई टीम को दूसरी सफलता 35वें ओवर में जाकर मिला, जब बेयरस्टो एश्टन एगर के शिकार बने। बेयरस्टो ने 92 गेंदो पर 15 चौकों और 5 छक्कों की मदद से 139 रन बनाए, जिसके दम पर इंग्लैंड ने 300 का आंकड़ा पार किया।

बेयरस्टो के आउट होने के बाद हेल्स ने जोस बटलर के साथ मिलकर पारी को आगे बढ़ाने की कोशिश की लेकिन बटलर 11 रन बनाकर आउट हो गए।

जो रूट के साथ हुए विवाद के बाद भी मैदान पर रवैया नहीं बदलेंगे गेब्रियल

हेल्स की 92 गेंदो पर खेली 147 रन की पारी की मदद से इंग्लैंड टीम 48 ओवर के अंदर 450 का आंकड़ा पार कर सकी। हेल्स के आउट होने के बाद कप्तान इयोन मोर्गन की अर्धशतकीय पारी की मदद से के मेजबान टीम ने 50 ओवर में 6 विकेट खोकर 481 रन का रिकॉर्ड स्कोर बनाया।

स्टीव स्मिथ और डेविड वार्नर के बिना खेल रही ऑस्ट्रेलियाई टीम 482 रन के लक्ष्य का पीछा करते हुए मात्र 239 के स्कोर पर ऑलआउट हो गई और इंग्लैंड ने ये मैच 242 रन के बड़े अंतर से जीता। प्लेयर ऑफ दे मैच का खिताब एलेक्स हेल्स को मिला।