Bhuvneshwar Kumar: Not worried about who is getting chance and who is not
Bhuvneshwar-Kumar @GETTY IMAGE

भारतीय क्रिकेट टीम के तेज गेंदबाज भुवनेश्वर कुमार को पिछले विश्व कप की तरह इस बार इंग्लैंड में भी अधिकतर समय बाहर बैठकर बिताना पड़ सकता है। इस पेसर को हालांकि इसकी परवाह नहीं है और उन्होंने स्पष्ट किया कि वह इससे चिंतित नहीं है कि किसे मौका मिलता है और किसे नहीं।

पढ़ें: महेंद्र सिंह धोनी के आखिरी मैच के सवाल पर भुवनेश्वर कुमार ने दिया जवाब

ऑस्ट्रेलिया में चार साल पहले भुवनेश्वर पर मोहित शर्मा को प्राथमिकता दी गई थी जो तब अच्छी फॉर्म में चल रहे थे जबकि इस बार जसप्रीत बुमराह और मोहम्मद शमी का नई गेंद संभालना तय है। ऐसे में टीम तीसरे तेज गेंदबाज के रूप में किसी सीम गेंदबाज को रख सकती है।

पढ़ें: IPL के दूसरे हाफ से लागू होगा वर्कलोड मैनेजमेंट: भुवनेश्वर कुमार

भुवनेश्वर ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ तीसरे वनडे की पूर्व संध्या पर कहा, ‘मैं इसको लेकर चिंतित नहीं हूं कि किस को मौका मिलेगा और किसे नहीं। विश्राम मिलना बेहद महत्वपूर्ण है। शमी को न्यूजीलैंड में विश्राम दिया गया और मुझे इस सीरीज में। आप निरंतर अच्छा प्रदर्शन करना चाहते हो और इसके लिए आप फिट होना चाहते हो। यही वजह है कि मैंने विश्राम लिया।’

‘ऑस्‍ट्रेलिया के खिलाफ तीन वनडे अभ्‍यास के लिए उपयुक्‍त’

भुवनेश्वर अगले तीन वनडे मैच को अभ्यास के रूप में देख रहे हैं क्योंकि वह आईपीएल को तैयारी के लिए उचित मंच नहीं मानते।

उन्होंने कहा, ‘जरूरी नहीं है कि आईपीएल (मैच अभ्यास के लिये उपयुक्त) हो लेकिन ये तीन मैच निश्चित तौर पर हैं क्योंकि हम किसी भी मैच को हल्के से नहीं ले सकते हैं। विश्व कप से पहले निश्चित तौर पर ये मैच हमारे लिए काफी महत्वपूर्ण हैं।’

‘आईपीएल अपने कौशल में निखार लाने का अच्‍छा मंच’

भुवनेश्वर के लिए आईपीएल अपने कौशल में निखार लाने का अच्छा मंच है। उन्होंने कहा, ‘आईपीएल में हम अपने कौशल को निखार सकते हैं और फॉर्म में रह सकते हैं लेकिन वनडे और टी20 पूरी तरह से भिन्न हैं। इसलिए हम इन तीनों मैचों को विश्व कप से पहले आखिरी मैच मानकर चल रहे हैं।’

बुमराह – शमी का संयोजन ही नहीं बुमराह – भुवनेश्वर की जोड़ी भी सफल रही है और उन्होंने कहा कि एक-दूसरे की भूमिका समझने के कारण उन्हें सफलता मिलती है।

भुवनेश्वर ने कहा, ‘अगर बुमराह विकेट ले रहे हैं तो मैं रनों पर अंकुश लगा सकता हूं ताकि बल्लेबाजों पर दबाव बना रहे। हम इन चीजों पर लगातार काम कर रहे हैं।’

उन्होंने कहा, ‘केवल हम दोनों ही नहीं बल्कि गेंदबाजी इकाई के तौर पर हम यह दिमाग में रखते हैं कि अगर कोई विकेट ले रहा है तो अन्य गेंदबाजों की भूमिका रन गति पर अंकुश लगाए रखना है। यह उल्टा भी हो सकता है। मैं विकेट ले सकता हूं और वह रन रोक सकता है।’