पाकिस्तान ने भारत (India vs Pakistan) को वर्ल्ड कप (T20 World Cup 2021) में पहली बार हराकर अपनी 29 साल से चली आ रही लगातार हार का सिलसिबनानला तोड़ दिया. इसके बाद उसके कई पूर्व क्रिकेटरों में काफी गर्मजोशी देखने को मिल रही है. इस बीच वह भारत के कई पूर्व क्रिकेटरों की राय पर भी सवाल उठा रहे हैं. कुछ ऐसा ही पाकिस्तान के पूर्व ओपनिंग बल्लेबाज सलमान बट्ट (Salman Butt) ने किया. सलमान बट्ट ने पूर्व भारतीय ओपनिंग बल्लेबाज वीरेंद्र सहवाग (Virender Sehwag) और गौतम गंभीर (Gautam Gambhir) को नसीहत दे दी कि वे सोच समझकर ट्वीट करें क्योंकि उनके शब्दों का पूरी दुनिया में फैले उनके फैन्स पर प्रभाव पड़ता है.

दरअसल सलमान बट्ट (Salman Butt) ने सहवाग और गंभीर के जिन ट्वीट पर यह नसीहत दी है. उन पर उनका या पाकिस्तान का कोई लेना-देना नहीं है. दरअसल पाकिस्तान की जीत के बाद भारत में कई शरारती तत्वों ने पाकिस्तान की जीत की खुशी पर पटाखे बजाए थे. सहवाग (Virender Sehwag) और गौतम गंभीर (Gautam Gambhir) इसी से नाराज थे और उन शरारती तत्वों को जिम्मेदार नागरिक बनने की बात कही थी.

https://twitter.com/virendersehwag/status/1452520206194987008?s=20

वीरेंद्र सहवाग (Virender Sehwag) ने अपने ट्वीट में लिखा था. ‘दिवाली के दिनों पटाखे प्रतिबंधित हैं लेकिन कल भारत के कुछ हिस्सों में पाकिस्तान की जीत की खुशी में पटाखे चलाए गए. अच्छा वह निश्चित ही क्रिकेट की जीत पर पटाखे चला रहे होंगे. तो ऐसे में दिवाली पर पटाखे चलाने से क्या नुकसान है. पाखंड क्यों. सारा ज्ञान तभी याद आता है.’ दरअसल दिवाली के दिनों में पटाखे चलाने से प्रदूषण फैलता है तो कई आलोचक इनकी जमकर आलोचना करते हैं लेकिन इन दिनों में ही जब कुछ शरारती तत्वों ने यह हरकत की तो सहवाग से रहा नहीं गया.

https://twitter.com/GautamGambhir/status/1452532383236886532?s=20

इसी तरह गौतम गंभीर ने ट्वीट किया, ‘जो पाकिस्तान की जीत पर पटाखे फोड़ रहे हैं वह भारतीय नहीं हो सकते. हम अपने खिलाड़ियों के साथ खड़े हैं.’

सलमान बट्ट (Salman Butt) इसी पर नाराज दिखे. उन्होंने अपने यूट्यूब चैनल पर कहा, ‘वे जाने-माने क्रिकेटर हैं, जो लंबे समय तक अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट खेले हैं. ये वे लोग हैं, जिन्हें लोगों को समझाना चाहिए. अगर वे ऐसी बातें करेंगे तो उनके आसपास लोग सोचेंगे कि वे जो बोल रहे हैं वह सही है. उन जैसे लोगों को कुछ भी कहते या लिखते हुए सावधान रहना चाहिए क्योंकि दुनिया भर में उनके फैन्स हैं. लोग उनकी बात सुनते हैं और उनसे प्रभावित होते हैं. उन्हें हमेशा अच्छी बात करनी चाहिए.’

37 वर्षीय इस पूर्व क्रिकेटर ने इस मौके पर एक पुराना वाक्या शेयर कर अपनी बात साबित करने की कोशिश की. उन्होंने कहा कि साल 2004 में जब भारत ने पाकिस्तान से उसके घर पर 5 मैचों की वनडे सीरीज 3-2 से जीती थी, तब पीसीबी ने उनकी जीत की खुशी में पटाखे चलाए थे. तब वह सीरीज 5वें मैच से पहले 2-2 से बराबर थी. भारत अंतिम मैच में जीत के साथ सीरीज जीत गया तो पीसीबी ने खेल भावना दिखाते हुए पटाखे चलाए थे.