Ehsan Mani: Dispute over Bilateral series with BCCI is beyond amicable settlement
Ehsan Mani (File Photo) © Getty Images

पाकिस्‍तान के नवनियुक्‍त अध्‍यक्ष एहसान मनी का मानना है कि भारत के साथ द्विपक्षीय सीरीज कराने का मसला इस वक्‍त मैत्रिपूर्ण तरीके से हल होता नजर नहीं आ रहा है। हम अभी इस मसले पर किसी नतीजे पर नहीं पहुंच पाए हैं।

पीसीबी ने आईसीसी के समक्ष बीसीसीआई के खिलाफ 447 करोड़ के मुआवजे का मुकदमा किया हुआ है। पीसीबी का कहना है कि बीसीसीआई के साथ हमारा साल 2015 से 2023 के बीच छह द्विपक्षीय सीरीज कराने को लेकर समझौता हुआ था। अब बीसीसीआई इससे पीछे हट गया है। ये मामला इस वक्‍त आईसीसी की विवाद निपटारा कमेटी के पास है जिसपर एक से तीन अक्‍टूबर तक दुबई में सुनवाई होनी है।

एहसान मनी ने मीडिया से बातचीत के दौरान कहा, “दोनों पक्षों को भविष्‍य में खेल को आगे बढ़ाने के लिए इसपर समाधान की ओर आगे बढ़ना होगा। जिस समय से विवाद हुआ था अगर मैं उस वक्‍त इस पद पर होता तो बातचीत के माध्‍यम से ही इसे सुलझा लेने का हर संभव प्रयास करता।”

बता दें कि एशिया कप के दौरान एसीसी की मीटिंग के बाद एहसान मनी ने बीसीसीआई के कार्यवाहक सचिव अमिताभ चौधरी और सीईओ राहुल जोहरी से अनौपचारिक मुलाकात की थी। माना जा रहा है कि इस मुलाकात का कोई नतीजा नहीं निकल सका है। बीसीसीआई पहले ही ये स्‍पष्‍ट कर चुका है कि भारत सरकार से हरी झंडी मिले बिना वो पाकिस्‍तान के साथ द्विपक्षीय सीरीज नहीं खेल सकते हैं।

एहसान मनी ने कहा, “बीसीसीआई के अधिकारियों के साथ हमारी काफी अच्‍छी बातचीत हुई है। हम सब ये बात समझते हैं कि जो हो चुका है हम उसे बदल नहीं सकते हैं। ये खेल किसी व्‍यक्ति विशेष से बड़ा है। हमें क्रिकेट को राजनीति के साथ मिलाकर नहीं देखना चाहिए।”

एहसान मनी का मानना है कि जब राजनीति से जुड़े लोग बोलते हैं तो हमें उसमें नहीं पड़ना चाहिए। दोनों देशों के क्रिकेट बोर्ड के स्‍तर पर ही हमें इस मसले का निपटारा करना होगा। जब कारगिल युद्ध हुआ था तब भी दोनों देशों के क्रिकेट बोर्ड के बीच बातचीत खत्‍म नहीं हुई थी।