सौरव गांगुली बंगाल क्रिकेट एसोसिएशन के अध्यक्ष हैं।  © AFP
सौरव गांगुली बंगाल क्रिकेट एसोसिएशन के अध्यक्ष हैं। © AFP

भारत के पूर्व कप्तान और विस्फोटक बल्लेबाज सौरव गांगुली को हाल ही में जान से मारने की धमकी मिली है। इस चौंका देने वाली खबर का खुलासा तब हुआ जब गांगुली ने कोलकाता पोलिस के पास अपनी प्राथमिकी दर्ज कराई। गांगुली इस समय बंगाल क्रिकेट एसोसिएशन के अध्यक्ष का पद संभाल रहे हैं। गांगुली का कहना है कि उन्हें यह धमकी उनके मिदनापुर जाने से पहले मिली है। उन्हें 19 जनवरी को मिदनापुर विश्वविद्यायल के दीक्षांत समारोह में शिरकत करनी है। हालांकि सौरव ने पुलिस को इसकी जानकारी दे दी है लेकिन वह दीक्षांत समारोह में जाएगें यह नहीं इस पर कोई कोई फैसला अभी तक नहीं लिया है। गांगुली को इससे पहले साल 2009 में भी इस्लामिक संगठनों से धमकी मिली थी। सौरव के साथ सचिन तेंदुलकर को भी अपहरण किए जाने की धमकी दी गई थी। ये भी पढ़ें:मुंबई बनाम गुजरात रणजी ट्रॉफी फाइनल मैच का लाइव ब्लॉग

मीडिया के बात करते हुए उन्होंने कहा, ” हां, मुझे सात जनवरी को एक खत मिला था औऱ मैने इस बारे में पुलिस और आयोजकों को बता दिया है, देखते हैं कि आगे क्या होगा। यह एक लाइव प्रोग्राम होगा इसलिए आप वहां आए और स्वंय देख लीजिएगा कि मैं वहां हूं या नहीं।” गांगुली ने लोढ़ा समिति की सिफारिशों पर चर्चा करने के लिए कैब की बैठक बुलाई थी जिसके बाद वह मीडिया से रूबरू हुए। खत में यह लिखा है कि अगर गांगुली आशीष चक्रवर्ती के साथ कोई भी संबंध रखेंगे तो उन्हें जान से मार दिया जाएगा।  ये भी पढ़ें:महेंद्र सिंह धोनी को आखिरी बार कप्तानी करते मुफ्त में देख पाएगे फैंस

बता दें कि चक्रवर्ती तहसील स्तर पर बंगाल क्रिकेट एसोसिएशन का काम संभालते हैं। गांगुली को इस खत में महाराज कहकर संबोधित किया गया है जो कि उनके बचपन का नाम है।