भारत बनाम इंग्लैंड सीरीज का हिस्सा हैं हार्दिक पांड्या।  © Getty Images
भारत बनाम इंग्लैंड सीरीज का हिस्सा हैं हार्दिक पांड्या। © Getty Images

सीमित ओवरों में भारत के सबसे सफल ऑलराउंडर हार्दिक पांड्या ने कानपुर में होने वाले पहले टी20 मैच से पहले मीडिया से बात की। पांड्या ने कहा 2016 टी20 विश्वकप उनके लिए क्षमता परिक्षण करने का अच्छा मौका था। साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि भारत ए टीम के साथ ऑस्ट्रेलिया दौरे पर उन्होंने काफी कुछ सीखा। पांड्या ने कहा, “विश्वकप के बाद मुझे अपनी क्षमताओं का पता चला और समझ में आया कि कहां पर सुधार की जरूरत है। भारत ए टीम के साथ ऑस्ट्रेलिया दौरा मेरे लिए काफी अहम रहा। मैंने अपने खेल के बारे में कई बातें सीखी, राहुल सर मुझसे हमेशा मेरे खेल के बारे में बात करते थे और मुझे खेल की बारीकियां समझाते थे।” ये भी पढ़ें: करुण नायर की तरह रन बनाए डेविड वॉर्नर: स्टीव स्मिथ

पांड्या ने इंग्लैंड के खिलाफ वनडे सीरीज में बढ़िया प्रदर्शन किया। उन्होंने तीन मैचों में 115 रन बनाए जिसमें उनका सर्वाधिक स्कोर 56 था जो उन्होंने कोलकाता वनडे में लक्ष्य का पीछा करते हुए बनाया था। साथ ही गेंदबाजी में भी पांड्या का बोलबाला रहा। उन्होंने इस सीरीज पर पांच विकेट लिए साथ ही बेहतरीन फील्डिंग करते हुए एक कैच भी पकड़ा। पांड्या छोटे फॉर्मेट में टीम से एक अहम खिलाड़ी हैं। इंग्लैंड के खिलाफ टी20 सीरीज में भी उनकी भूमिका महत्वपूर्ण रहेगी। टी20 में धमाल मचा चुके पांड्या ने पिछले साल न्यूजीलैंड के खिलाफ वनडे डेब्यू किया और अपने पहले ही मैच में उन्होंने मैन ऑफ द मैच का खिताब भी हासिल किया। ये भी पढ़ें: एयरपोर्ट से घर जाने के लिए रविचंद्रन अश्विन ने लिया चेन्नई मेट्रो का सहारा

पांड्या ने केदार जाधव के साथ मिलकर कोलकाता वनडे में भारत तो जीत के काफी करीब लाकर खड़ा कर दिया था। पांड्या के टीम में शामिल होने से भारत को निचले क्रम में एक बेहतरीन फिनिशर मिल गया है। वहीं उम्मीद है कि जून में होने वाली चैम्पियंस ट्रॉफी के लिए भी हार्दिक को टीम में जगह दी जाएगी।