अनिल कुंबले और रवि शास्त्री © AFP & Getty Images
अनिल कुंबले और रवि शास्त्री © AFP & Getty Images

अनिल कुंबले के इस्तीफे के बाद अब रवि शास्त्री टीम इंडिया के कोच बनने की रेस में सबसे आगे हैं। खबरे हैं कि उनका कोच बनना लगभग तय है। टीम इंडिया ने रवि शास्त्री के टीम डायरेक्टर रहते हुए शानदार प्रदर्शन किया वहीं अनिल कुंबले के कार्यकाल में भी भारतीय टीम का प्रदर्शन गजब का रहा। वैसे आपको बता दें रवि शास्त्री और अनिल कुंबले की शख्सियत और काम करने के तरीके में खासा बड़ा फर्क रहा है। इसी फर्क को टीम इंडिया के फील्डिंग कोच आर श्रीधर ने भी बताया।

श्रीधर ने कहा, ‘शास्त्री ऐसे व्यक्ति हैं जो चरित्र आधारित हैं। वो टीम में चरित्र वाले खिलाड़ी चाहते हैं और इसी मानसिकता के साथ काम करते हैं। वो इसी सोच को मैदान पर भी ले जाना चाहते हैं। वहीं कुंबले ऐसे व्यक्ति हैं जो अपने तरीके से महानता हासिल करना चाहते हैं। कुंबले और शास्त्री दोनों अलग हैं और वो कभी एक जैसे नहीं हो सकते।’

वैसे श्रीधर ने अपने बयान के दौरान संकेत दिया कि अनिल कुंबले को विराट कोहली की टीम को समझना चाहिए था। श्रीधर ने कहा, ‘आज के क्रिकेट में महत्वपूर्ण है कि लीडर के रूप में आप ग्रुप की उर्जा का अनुसरण करे ताकि आपको परिणाम मिले। आपको ग्रुप की मांग को समझना होगा ताकि हर सदस्य के पास सही स्पेस हो।’ ये भी पढ़ें-विराट कोहली क्यों बनाना चाहते हैं रवि शास्त्री को कोच? ये हैं 4 बड़े कारण

श्रीधर ने कहा, ‘मौजूदा भारतीय टीम में काफी अनुभवी खिलाड़ी हैं। इसलिए हमने प्रयोग करके सर्वश्रेष्ठ नतीजे निकालने की ठानी। हर खिलाड़ी अपने मुताबिक मैच के लिए तैयारी करता है और उन्हें पता होता है कि कब किससे बात करनी है और मदद मांगनी है। अच्छे लीडर के साथ-साथ अच्छा फॉलोअर होना भी जरूरी है।’