I had two heroes; Says Sachin Tendulkar names his batting idols while growing up
Sachin Tendulkar @afp (file image)

क्रिकेट के ‘भगवान’ कहे जाने वाले दिग्गज सचिन तेंदुलकर का कहना है कि जब वह युवा थे उस समय सुनील गावस्कर और वेस्टइंडीज के दिग्गज विव रिचर्ड्स उनके बल्लेबाजी नायक थे। जबकि उनके पिता रमेश तेंदुलकर उनके असल जिंदगी के नायक थे।

तेंदुलकर ने कहा, ‘मेरे नायक, मैं कहूंगा कि जब मैं क्रिकेट खेल रहा था, जब मैं आपकी उम्र (युवा) का था तो मैं क्रिकेटर बनकर अपने देश के लिए आगे बढ़ना चाहता था। मेरे दो नायक थे -एक हमारे सुनील गावस्कर जो भारत के कई वर्षों तक खेले और शानदार प्रदर्शन किया – वह मेरे बल्लेबाजी नायक थे।’

अपने तीसरे अर्धशतक को लेकर संतुष्ट हैं जॉनी बेयरस्टो, वॉर्नर को लेकर दिया बड़ा बयान

बकौल गावस्कर, ‘उनके साथ ही वेस्टइंडीज के विव रिचर्ड्स भी थे। जब मैं क्रिकेट खेलता था तो ये मेरे बल्लेबाजी नायक थे। लेकिन आम जिंदगी में तो मैं कहूंगा कि मेरे नायक मेरे पिता (रमेश तेंदुलकर) थे। मैंने उनके साथ इतना समय बिताया। वह बहुत सौम्य और शांत थे, उनका व्यवहार बहुत अच्छा था। इसलिये यह मेरा सपना है कि मैं उनकी तरह बनूं।’

पूर्व भारतीय क्रिकेटर ने कहा, ‘मैं कहूंगा कि मेरे पिता मेरी जिंदगी के नायक थे।’

The Hundred: बेयरस्टो की जगह वेल्स फायर टीम में शामिल हुए पोप

तेंदुलकर ने ये बातें वर्चुअल ‘गिफ्ट ऑफ लाइफ’ समारोह के दौरान की जिसका आयोजन श्री सत्य साई संजीवनी अस्पताल ने देश में महामारी के शुरू होने के बाद से 1000 बच्चों की मुफ्त में ह्दय की सर्जरी कराने के बाद किया।

तेंदुलकर ने अस्पताल के काम की भी जमकर प्रशंसा की।