In coming 26 months, my endeavour would be to leave the team in a happier place; Says Ravi Shastri
Ravi Shastri @afp (file image)

भारतीय क्रिकेट टीम के दोबारा कोच बने रवि शास्त्री ने कहा है कि उनकी कोशिश अगले 26 महीनों के अपने कार्यकाल के बाद ऐसी विरासत छोड़कर जाने की रहेगी जहां टीम खुश रहे।

पढ़ें: …आखिर बल्‍लेबाजी के दौरान करना क्‍या चाह रहे थे स्मिथ, ECB ने उड़ाया मजाक

शास्त्री को शुक्रवार को कपिल देव की अगुवाई वाली क्रिकेट सलाहकार समिति (सीएसी) ने दूसरी बार टीम के मुख्य कोच के लिए चुना। शास्त्री की उम्र 57 साल है और बीसीसीआई संविधान के मुताबिक राष्ट्रीय टीम के कोच की उम्र 60 साल से कम होनी चाहिए। ऐसे में शास्त्री के पास टीम के साथ यह आखिरी मौका होगा। 2023 विश्व कप में अभी काफी समय है और 2021 टी-20 विश्व कप जीतना टीम के लिए आशावादी लक्ष्य हो सकता है।

शास्त्री ने बीसीसीआई.टीवी से कहा, ‘आपको तीन-चार गेंदबाजों की पहचान करनी होगी ताकि उन्हें पूल में जोड़ा जा सके, यह एक चुनौती है। मैं चाहूंगा कि 26 महीने के अपने कार्यकाल के बाद ऐसी विरासत छोड़कर जाऊं जहां टीम खुश रहे।’

वह ऐसी विरासत छोड़ना चाहते है जहां जिसका अनुसरण करना भविष्य के खिलाड़ियों के लिए मुश्किल होगा। उन्होंने कहा, ‘मुझे उम्मीद है कि आने वाले वर्षों में यह टीम ऐसी विरासत बनाएगी जो काफी कम टीमों ने किया होगा। सिर्फ मौजूदा खेल के समय नहीं बल्कि खेल के बाद भी।’

पढ़ें: नया कार्यकाल मिलने पर शास्‍त्री बोले- जब आप बुरी स्थिति में होते हो…

भारतीय कोच ने कहा, ‘हम सब की ऐसी चाहत है और हम उसमें आगे बढ़ रहे हैं। सुधार की हमेशा गुंजाइश रहती है। टीम में जिस तरह के युवा आ रहे हैं मुझे लगता है कि आने वाला समय काफी रोचक होने वाला है। जब आप सर्वश्रेष्ठ करने की कोशिश करते है तो आप हर दिन अपना स्तर ऊंचा करने की कोशिश करते हैं और आपको सभी बारीकियों पर ध्यान देना होता है। जब आप अच्छा नहीं करते हैं तब आपको उस बाधा को पार करने के ध्यान देना होता है।’

कोच के लिए साक्षात्कार से पहले ही कप्तान विराट कोहली ने खुलकर शास्त्री की तरफदारी की थी। उन्होंने भारत में 2021 में होने वाले टी20 विश्व कप तक (लगभग दो साल) के लिए कोच नियुक्त किया गया हैं।

शास्त्री ने पिछले दो साल के प्रदर्शन का आकलन करते हुए उसे शानदार बताया। उन्होंने कहा, ‘पिछले दो-तीन साल टीम ने शानदार तरीके से निरंतर प्रदर्शन किया। लेकिन जैसा की मैंने कहा है उन्होंने एक स्तर बना लिया है और अब उस स्तर से ऊपर उठना होगा।’

उन्होंने कहा, ‘इसके लिए कोई दूसरा तरीका नहीं है आपको पूरी कोशिश करनी होगी। इस कोशिश में कई बार नतीजे आपके अनुकूल नहीं होंगे, कई बार आपको नहीं पता होता है कि सर्वश्रेष्ठ टीम संयोजन क्या होगा। ऐसा भी समय होगा जब आप युवाओं को मौका देंगे ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि टीम संयोजन सही बने, आपको हर चीज में सुधार करना होगा।’

शास्त्री ने मौजूदा टीम की क्षेत्ररक्षण में सुधार पर जोर दिया। उन्होंने कहा, ‘पिछले चार-पांच वर्षों में इस टीम में सबसे अच्छी बात क्षेत्ररक्षण में सुधार है और हमारी कोशिश इसे सर्वश्रेष्ठ क्षेत्ररक्षण टीम बनाने की है। ऐसे में जो भी इस टीम के लिए खेलना चाहता है उसे अपनी क्षेत्ररक्षण को शीर्ष स्तर पर रखना होगा, खासकर एकदिवसीय प्रारूप में।