एडम जम्पा © Getty Images
एडम जम्पा © Getty Images

ऑस्ट्रेलियाई गेंदबाज एडम जंपा ने बताया कि भारत के खिलाफ पहले वनडे मैच में हार्दिक पांड्या के खिलाफ अपनी योजनाओं को लागू करने में विफल रहे। पांड्या ने इस लेग स्पिनर के ओवर में एक चौका और तीन छक्के लगाकर 24 रन बटोरे जिससे भारतीय टीम के ऊपर से दबाव हट गया और टीम बड़ा स्कोर खड़ा करने में सफल रही। जंपा ने 37वें ओवर को याद करते हुए कहा, “मुझे दबाव में गेंदबाजी करने की अपनी क्षमता पर गर्व है लेकिन उस दिन मैच में हार्दिक के खिलाफ मैं वैसी गेंदबाजी नहीं कर पाया जैसी गेंदबाजी करना मैं पसंद करता हूं। हार्दिक को स्ट्राइक से हटाना जरूरी था। शायद वो तीन गेंदें मैंने बल्ले के काफी करीब फेंकी। हार्दिक जैसे खिलाड़ी के खिलाफ अगर आप चूकोगे तो गेंद मैदान के बाहर ही जाएगी। हार्दिक काफी अच्छा खिलाड़ी है।”

चेन्नई वनडे में एक समय भारत ने 87 रन पर पांच विकेट खो दिए थे, जिसके बाद पांड्या (83) और महेंद्र सिंह धोनी (79) ने छठे विकेट के लिए 118 रन की शानदार साझेदारी की। ऑस्ट्रेलिया को बारिश से इस मैच में डकवर्थ लुइस नियम से 26 रन से हार का सामना करना पड़ा।

25 साल के जंपा ने कहा कि उपमहाद्वीप में गेंदबाजी करते हुए ‘लेंथ’बहुत महत्वपूर्ण होती है। उन्होंने कहा, “ऑस्ट्रेलिया में अगर आप लेंथ में थोड़ी चूक भी करते हो तो बड़े मैदान की वजह से बाउंड्री से बच सकते हो लेकिन यहां लंबाई काफी महत्वपूर्ण है। आप कभी लगातार तीन छक्के खाना पसंद नहीं करोगे। लेकिन मुझे लगता है कि ऐसा होता है, शेन वार्न के साथ भी ऐसा हुआ। जब तक आप अपने ऊपर काफी दबाव नहीं डालते हैं तो इन स्थितियों से सीखते हैं। उम्मीद करता हूं कि अगली बार मैं उसे जल्दी आउट कर पाऊंगा।” जंपा ने राइजिंग पुणे सुपरजाइंट में अपने साथी रहे महेंद्र सिंह धोनी की भी तारीफ की। [ये भी पढ़ें: कोलकाता वनडे से पहले ऑस्ट्रेलियाई गेंदबाजों को सता रहा है ‘डर’!]

पांच मैचों की सीरीज में 0-1 से पिछड़ी ऑस्ट्रेलिया की नजरें गुरुवार को ईडन गार्डन पर वापसी करने पर टिकी है। जंपा ने कहा, “दोनों तेज गेंदबाजों ने काफी अच्छी गेंदबाजी की। हमारे पास लेग स्पिन और ऑफ स्पिन के रूप में भी काफी वेरिएशन थे। जंपा ने कहा कि बारिश के बाद 21 ओवर में 164 रन का लक्ष्य मुश्किल साबित हुआ। 50 ओवर में स्थिति अलग होती। हम पर दबाव था और 21 ओवर में स्थिति मुश्किल हो गई लेकिन भारतीय गेंदबाजों ने काफी अच्छी गेंदबाजी की। चार विकेट गंवाने के बाद दो स्पिनरों का सामना करना और मुश्किल हो गया।”