© Getty Images
भारतीय प्रशंसक फिर उठा सकेंगे फटाफट क्रिकेट के महाकुंभ का मजा © Getty Images

भारतीय क्रिकेट प्रशंसकों के लिए बेहद अच्छी खबर है। अगले साल टी-20 विश्वकप भारत में खेला जाएगा। नेत्रहीनों का यह टूर्नामेंट 31 जनवरी से शुरू होगा और 12 फरवरी तक खेला जाएगा। नेत्रहानों के इस टी-20 विश्वकप के लिए राहुल द्रविड़ को बैंड ऐंबेसडर नियुक्त किया गया है। विश्वकप की शुरुआत दिल्ली में होगी और फाइनल मुकाबला बेंगलुरू में खेला जाएगा। यह दूसरा अवसर है जब भारत नेत्रहीन विश्वकप टी-20 का आयोजन कर रहा है। इससे पहले सााल 2012 में भारत ने पहला नेत्रहीन टी-20 विश्वकप का खिताब अपने नाम किया था और इसके ठीक बाद साल 2014 में 40 ओवरों के विश्वकप पर भी कब्जा जमाया था।

टूर्नामेंट में कुल 10 टीमें भाग लेंगी। टूर्नामेंट में ऑस्ट्रेलिया, बांग्लादेश, इंग्लैंड, नेपाल, न्यूजीलैंड, पाकिस्तान, दक्षिण अफ्रीका, श्रीलंका, वेस्टइंडीज और भारत की टीमें दो-दो हाथ करेंगी। विश्वकप के मुकाबले भारत के सात शहरों में आयोजित किए जाएंगे। नई दिल्ली, फरीदाबाद, इंदौर, मुंबई, कोच्चि, भुवनेश्वर, बेंगलुरू, गुजरात और आंध्र प्रदेश में यह मैच आयोजित किए जाएंगे। इस मौके पर ब्रैंड एंबेसडर राहुल द्रविड़ ने कहा कि मैं खुद को बहुत भाग्यशाली समझ रहा हूं और यह मेरे लिए एक खास मौका है।  भारत बनाम इंग्लैंड, पहला टेस्ट: लाइव ब्लॉग देखने के लिए क्लिक करें

द्रविड़ ने कहा, ‘मैंने अब तक नेत्रहीन क्रिकेट के बारे में केवल सुना था लेकिन मुझे ये नहीं मालूम था कि इसका इतना विकास हो गया है, मैं इसके लिए कैबी की सराहना करना चाहूंगा जो उन्होंने नेत्रहीन विश्वकप का आयोजन करा रहे हैं और क्रिकेट का प्रचार कर रहे हैं।’ आपको बता दें कि राहुल द्रविड़ नेत्रहीन विश्वकप के ब्रैंड एंबेसडर नियुक्त किए गए हैं और वह इसके प्रचार की जिम्मेदारी संभालेंगे। राहुल ने कहा कि मैंने आखों पर पट्टी बांधकर क्रिकेट खेलने का प्रयास किया है और मेरी मानें यह बिल्कुल असंभव जैसा है। मैं ईमानदारी से कहूं तो मैं ऐसा करने में बिल्कुल असमर्थ था। आपको पता ही नहीं चलता कि आपके पास गेंद कब आ गई।

कैबी के अध्यक्ष महंतेश जीके ने उम्मीद जताई की टूर्नामेंट के आयोजन के लिए उन्हें बीसीसीआई की तरफ से लगभग 24 करोड़ की मदद मिलेगी। जीके ने कहा कि बीसीसीआई की तरफ से हमें कोई आधिकारिक जानकारी नहीं मिली है लेकिन हमने उनसे आर्थिक मदद की गुहार लगाई है। हमें अगस्त के महीने में बीसीसीआई अध्यक्ष अनुराग ठाकुर का ईमेल प्राप्त हुआ था और वह इस टूर्नामेंट को पसंद भी करते हैं। हमें बीसीसीआई के साथ-साथ कई राज्यों का भी समर्थन मिल रहा है।  भारत या तो हमारे साथ क्रिकेट खेले या फिर हर्जाना भरे: पीसीबी