मनन वोहरा © BCCI
मनन वोहरा © BCCI

सोमवार(17 अप्रैल) को सनराइजर्स हैदराबाद के खिलाफ किंग्स इलेवन पंजाब के ओपनर मनन वोहरा की ताबड़तोड़ बल्लेबाजी देखकर हर कोई हैरान रह गया। किंग्स इलेवन पंजाब ने 6 विकेट सिर्फ 82 रन पर गंवा दिए थे, लेकिन ओपनर मनन वोहरा क्रीज पर टिके रहे और उन्होंने ताबड़तोड़ अंदाज में सिर्फ 50 गेंद में 95 रन की पारी खेली। हालांकि वो अपनी टीम को जीत नहीं दिला सके और किंग्स इलेवन पंजाब सिर्फ 5 रन से मैच हार गई। मनन वोहरा ने मैच के बाद टीम की हार पर काफी दुख जताया और उन्होंने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि वो अच्छी पारी खेलने के बावजूद दुखी हैं।

मनन वोहरा बोले ‘हमारी टीम ने गेंद से अच्छा प्रदर्शन किया, हैदराबाद को 160 रनों तक रोका, विकेट बल्लेबाजी के लिए अच्छा था, पिच धीमी थी लेकिन रन बनाए जा सकते थे। लेकिन हमने शुरुआत अच्छी नहीं की हम रास्ता भटक गए। मैं भगवान से प्रार्थना कर रहा था कि मैं खेल को आगे तक ले जाऊं। मुझे मैच जिताने का शानदार मौका मिला भी लेकिन अफसोस कि मैं ये नहीं कर सका।’ ये भी देखें-आईपीएल 10, 19वां मैच, सनराइजर्स हैदराबाद बनाम किंग्स इलेवन पंजाब का स्कोरकार्ड

मनन वोहरा ने खुलासा किया कि जब उनकी टीम ने जल्दी-जल्दी विकेट खो दिए थे तो उनकी रणनीति ज्यादा से ज्यादा खेलने की थी। ‘जब मैं 30 रन पर था तो मैं गेंद को ध्यान से खेल रहा था। ये मेरा पांचवां आईपीएल है और मैंने अबतक बड़े स्कोर नहीं बनाए हैं। मैं बस 14-15 ओवर तक टिकना चाहता था। मैं जानता था कि अगर मैंने ऐसा कर दिया तो मैं बड़ा स्कोर बना सकता हूं। मैंने सोचा कि अगर मैं अच्छी शुरुआत करूंगा तो टीम को मदद मिलेगी, लेकिन हाशिम आमला और कप्तान ग्लेन मैक्सवेल जल्दी आउट हो गए, इसके बाद मैंने ऑयन मॉर्गन के साथ खेल को आगे बढ़ाने की सोची और बिना जोखिम लिए अच्छे क्रिकेट शॉट खेलने की रणनीति बनाई।’

मनन वोहरा ने कप्तान ग्लेन मैक्सवेल के तीसरे नंबर पर उतरने की रणनीति का बचाव भी किया। मनन ने कहा ‘हमारी रणनीति मैक्सवेल को ज्यादा से ज्यादा मौके देना था, क्योंकि वो हमारे सबसे बड़े बल्लेबाज हैं। जितना वो क्रीज पर रहेंगे, मैच उतनी जल्दी खत्म होगा। रणनीतियां मैच के मुताबिक बदलती रहती हैं।’