एमएस धोनी और स्टीफन फ्लैमिंग © Getty Images
एमएस धोनी और स्टीफन फ्लैमिंग © Getty Images

राइजिंग पुणे सुपरजायंट के लिए आईपीएल 2017 किसी ‘रोलर कोस्टर राइड’ की तरह रहा है। इस सीजन में टीम का भाग्य लगातार बदलता रहा है। इस साल पहले चार मैचों के बाद, ऐसा लगा कि वे एक बार फिर से प्लेऑफ में नहीं पहुंच पाएंगे लेकिन छह मैचों के बाद लगा कि अब वे टॉप 2 में जरूर पहुंचेंगे। अगले तीन मैचों का परिणाम आया तो फिर से उनके प्लेऑफ में पहुंचने पर शंका शुरू हो गईं। वहीं पिछले मैच में किंग्स इलेवन पंजाब के खिलाफ जीत दर्ज करते हुए वे अंक तालिका में दूसरे नंबर पर पहुंच गए।

स्टीवन स्मिथ की टीम के लिए आईपीएल 10 का सफर अबतक बेहद उतार-चढ़ाव वाला रहा है। सुपरजायंट के लिए पहला सीजन खराब रहा था क्योंकि उन्होंने कई मैच हारे थे। लेकिन इस सीजन में उन्होंने तेजी से वापसी की और विपक्षी टीमों को चारो खाने चित कर दिया। इस सीजन में उनकी टीम एक ईकाई के रूप में खेली। आरपीएस के कोच स्टीवन फ्लैमिंग ने बताया, “हमने पिछले सीजन में अंतिम ओवरों में 6-7 मैच गंवाए थे लेकिन इस सीजन हमने अंतिम ओवरों में 5 में से 5 मैच जीते और यही टीम के लिए टर्निंग प्वाइंट रहा।”

सुपरजायंट के प्रदर्शन में अनुभव और युवा प्रतिभा का तड़का नजर आया है। टीम के सीनियर खिलाड़ी स्टीवन स्मिथ और मनोज तिवारी ने अपनी बेहतरीन बैटिंग के दमपर टीम को जीत दिलवाने में अहम भूमिका निभाई है। इसके अलावा युवा राहुल त्रिपाठी, जयदेव उनादकट और शार्दुल ठाकुर ने भी अच्छा योगदान दिया है।[ये भी पढ़ें: आईपीएल 10: पहले क्वालिफायर में धोनी के ‘धमाके’ से नहीं बचेगी मुंबई इंडियंस?]

उनादकट और ठाकुर ने किंग्स इलेवन पंजाब के खिलाफ मैच में तो जलवा बिखेर दिया था। उनादकट अच्छी गेंदबाजी के साथ शानदार फील्डिंग भी करते हैं और इस तरह उन्होंने इस सीजन में कई मर्तबा मैच अपनी टीम की ओर मोड़ा है। वहीं शार्दुल ठाकुर ने भी उनका अच्छा साथ निभाया है। जिस तरह का प्रदर्शन आरपीएस ने अबतक किया है उसे देखते हुए क्वालीफायर-1 में पुणे और मुंबई इंडियंस के बीच दिलचस्प मुकाबला देखने को मिल सकता है।