कप्तान संजू सैमसन की शतकीय पारी के बावजूद राजस्थान रॉयल्स इंडियन प्रीमियर लीग के 14वें सीजन के चौथे मैच में पंजाब किंग्स के खिलाफ मैच करीबी मैच में 4 रन से हार गई। 222 रन के लक्ष्य का पीछा करते हुए राजस्थान टीम 20 ओवर में 7 विकेट के नुकसान पर 217 रन ही बना सकी।

पहली बार आईपीएल टीम की कप्तानी कर रहे सैमसन ने 63 गेंदो पर 12 चौकों और सात छक्कों की मदद से 119 रनों की पारी खेली। पंजाब की ओर से अक्षदीप सिंह ने सर्वाधिक 3 विकेट लिए। जबकि मोहम्मद शमी ने 2 विकेट हासिल किए। झाय रिचर्डसन और राइली मेरेडिथ को एक-एक सफलता मिली।

पंजाब किंग्स के दिए 222 रनों के विशाल लक्ष्य का पीछा करने उतरी राजस्थान टीम के लिए पारी की शुरुआत बेन स्टोक्स और मनन वोहरा की जोड़ी ने की। टीम को पहले ही ओवर में बड़ा झटका लगा, जब स्टार ऑलराउंडर स्टोक्स बिना खाता खोले मोहम्मद शमी की गेंद पर कैच आउट हो गए।

पहला विकेट जल्दी गिरने के बाद कप्तान संजू सैमसन ने पारी का जिम्मा संभाला। चौथे ओवर में वोहरा भी 12 रन बनाकर अक्षदीप सिंह की गेंद पर कैच आउट हुए। 25 रन पर दो विकेट गिरने के बाद सैमसन और जॉस बटलर के बीच एक अहम साझेदारी बनी।

बटलर ने 13 गेंदो पर पांच चौकों की मदद से 25 रन बनाए। लेकिन आठवें ओवर में तेज गेंदबाज झाय रिचर्डसन की गेंद पर बोल्ड होकर वो पवेलियन लौट गए। बटलर के बाद ऑलराउंडर शिवम दुबे भी 15 गेंदो पर 23 रन बनाकर अक्षदीप की गेंद पर हुड्डा के हाथों कैच आउट हुए।

123 रन के स्कोर पर चार विकेट गिरने के बाद ऑलराउंडर रियान पराग क्रीज पर उतरे। जिन्होंने कुछ खूबसूरत शॉट खेलने लेकिन वो भी बड़ी पारी नहीं खेल पाए और 11 गेंदो पर 25 रन बनाकर शमी का शिकार बने।

आधी टीम के पवेलियन लौटने के बाद कप्तान को राहुल तेवतिया साथ मिला। कप्तान ने एक छोर से पारी को संभाले रखा। इस बीच सैमसन ने अपना शतक पूरा किया और पहली बार कप्तानी करते हुए शतक बनाने वाले आईपीएल इतिहास के पहले बल्लेबाज बने।

आधी टीम के पवेलियन लौटने के बाद कप्तान को राहुल तेवतिया साथ मिला। कप्तान ने एक छोर से पारी को संभाले रखा। 18वें ओवर में सैमसन ने दो चौके और एक छक्का लगाकर अपना शतक पूरा किया। इसी के साथ वो पहली बार कप्तानी करते हुए शतक बनाने वाले आईपीएल इतिहास के पहले बल्लेबाज बने।

18 ओवर तक राजस्थान ने 200 रन का आंकड़ा पार किया और टीम को दो ओवर में जीत के लिए मात्र 21 रनों की जरूरत थी। 19वें ओवर में अटैक में आते ही डेब्यू कर रहे गेंदबाज राइली मेरेडिथ ने पहली ही गेंद पर तेवतिया को कैच आउट कराया लेकिन सैमसन दूसरे छोर पर टिके रहे।

आखिरी ओवर में राजस्थान टीम जीत से केवल 13 रन दूर थी। अक्षदीप गेंदबाजी करने आए और स्ट्राइक पर सैमसन थे। पहली गेंद पर कोई रन नहीं आया। दूसरी गेंद पर एक रन लेकर सैमसन ने स्ट्राइक क्रिस मॉरिस को दी। तीसरी गेंद पर मॉरिस ने सिंगल लिया और सैमसन फिर स्ट्राइक पर आ गए।

चौथी गेंद पर कप्तान सैमसन ने डीप एक्स्ट्रा कवर की दिशा में छक्का लगाया। अब जीत का अंतर 5 रन का रह गया था। पांचवीं गेंद पर सैमसन ने सिंगल लेने से इंकार किया और स्ट्राइक अपने पास रखी। अब जीत के लिए आखिरी गेंद पर 5 रनों की जरूरत थी। सैमसन के इस फैसले का सीधा प्रभाव मैच के नतीजे पर पड़ा। आखिरी गेंद पर बड़ा शॉट लगाने की कोशिश में सैमसन कैच आउट हुए और पंजाब ने चार रन से मैच जीता।