irfan pathan praised deepak hooda said he has a lot to offer to indian cricket
दीपक हुड्डा की तारीफ में पठान ने पढ़े कसीदे

नई दिल्ली: भारतीय टीम की सबसे बड़ी ताकत अब उसकी बेंच स्ट्रेंथ है। भारतीय टीम अब किसी भी वक्त दो-तीन टीमें अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में उतार सकता है। इस पर विचार करने के लिए आपको ज्यादा दूर जाने की जरूरत नहीं है। हाल ही में इंग्लैंड में टी20 और वनडे सीरीज जीतने वाली टीम को देखिए और उसके बाद वेस्टइंडीज में वनडे सीरीज जीतने वाली टीम पर नजर डालिए। दोनों टीमों में काफी खिलाड़ी एक-दूसरे से अलग हैं। इसकी वजह है टीम में काफी गहराई है। और कई खिलाड़ी प्लेइंग इलेवन में जगह बनाते रहते हैं। इस बेंच स्ट्रेंथ को देखकर इस बात का आश्वासन मिलता है कि टीम इंडिया का भविष्य सुरक्षित हाथों में है।

टीम इंडिया के इन खिलाड़ियों में दीपक हुड्डा भी एक हैं। उन्होंने हाल ही में कुछ कमाल की पारियां खेली हैं। आईपीएल की कुछ पारियों को छोड़ दें तो हुड्डा का नाम इतना जाना-पहचाना नहीं था। लेकिन दाएं हाथ के इस बल्लेबाज ने कुछ ही समय में काफी नाम कमा लिया है। हुड्डा के यहां तक पहुंचने में कई ऐसी चीजें हैं जो दुनिया के सामने नहीं आईं। हुड्डा को हमेशा भारत के पूर्व ऑलराउंडर इरफान पठान का सपॉर्ट मिला है।

इसे भी पढ़ें- शानदार पारी के बाद भी किस बात को लेकर निराश हैं श्रेयस अय्यर

पठान ने इस खिलाड़ी की बहुत तारीफ भी की है। उन्होंने कहा है कि हुड्डा जरा देर से रंग में आए हैं। उन्होंने यह भी उम्मीद जताई कि आने वाले वक्त में हुड्डा भारत के लिए बहुत अच्छा प्रदर्शन करेंगे। उन्होंने उम्मीद जताई कि यह युवा ऑलराउंडर आने वाले वक्त में भारत के लिए बहुत अच्छा प्रदर्शन करेगा।

‘दो साल पहले तक हुड्डा को खुद को यकीन नहीं था कि वह कभी भारत के लिए खेल पाएंगे या नहीं। आज वह इस बात का बहुत बड़ा उदाहरण हैं कि अगर आप अपनी कमियों को स्वीकार करें और उन्हें दूर करने का दिल से प्रयास करें तो आधी जंग तो आप जीत ही गए। मैं यह सोचकर काफी उत्साहित हूं कि वह भारतीय टीम के लिए क्या कर सकते हैं। वह सिर्फ 27 साल के हैं, अगर वह छह-सात साल भारतीय टीम को दें तो उनमें काफी कुछ हासिल करने की क्षमता है।’ पठान ने ईएसपीएनक्रिकइंफो को बातचीत में बताया।

इसे भी पढ़ें- विराट कोहली पर अख्तर का दो लफ्जों का जवाब आपका दिल जीत लेगा

हुड्डा के लिए साल 2022 बहुत अच्छा रहा है। उन्हें वनडे और टी20 में भारत के लिए डेब्यू करने का मौका मिला है। हुड्डा ने आयरलैंड के खिलाफ टी20 इंटरनैशनल में सेंचुरी लगाई और उसके बाद इंग्लैंड के खिलाफ पहले टी20 मुकाबले में भी आक्रामक पारी खेली। इसके बाद जब दूसरे टी20 में उनके स्थान पर विराट कोहली को शामिल किया गया तो टीम के इस फैसले की आलोचना भी होने लगी।

हुड्डा ने घरेलू क्रिकेट में दमदार खेल दिखाया था। राजस्थान की ओर से खेलते हुए उन्होंने कर्नाटक के खिलाफ विजय हजारे ट्रॉफी के फाइनल में सेंचुरी लगाई थी। इसके बाद सैयद मुश्ताक अली ट्रॉफी में सबसे ज्यादा रन बनाने वाले खिलाड़ियों की लिस्ट में वह दूसरे स्थान पर रहे।

पठान ने इस युवा खिलाड़ी को अपनी कमियां दूर करने के मदद की। हालांकि आईपीएल के प्रदर्शन के दम पर हुड्डा को भारतीय टीम में जगह बनाने का मौका दिया।