भारत और न्यूजीलैंड के बीच होने वाले पहले आईसीसी टेस्ट चैंपियनशिप फाइनल (WTC Final) को लेकर क्रिकेट जगत में काफी चर्चा हो रही है। इस ऐतिहासिक मैच का आयोजन 18 से 22 जून के बीच साउथम्पटन में होना है। इस मैच से पहले न्यूजीलैंड टीम को इंग्लैंड के खिलाफ दो मैचों की टेस्ट सीरीज भी खेलनी है।

कई क्रिकेट समीक्षकों और पूर्व क्रिकेटरों का मानना है कि इंग्लैंड के खेलने की वजह से कीवी टीम को चैंपियनशिप फाइनल में भारत के मुकाबले ज्यादा फायदा मिलेगा। हालांकि पूर्व भारतीय सबा करीम का कहना है कि कीवी टीम का मध्यक्रम कमजोर है जिसका फायदा भारतीय गेंदबाज उठा सकते हैं।

करीम ने कहा कि न्यूजीलैंड का बल्लेबाज क्रम उनके कप्तान केन विलियमसन (Kane Williamson) पर काफी हद तक निर्भर करता है। उन्होंने कहा, “दोनों ही टीमों में कमिंया है। न्यूजीलैंड का मध्यक्रम बेहद कमजोर है। केन विलियमसन एक बड़े खिलाड़ी हैं। हर टीम को लगता है कि अगर वो उन्हें जल्दी आउट कर लेते हैं तो वो पूरी टीम को ऑलआउट कर सकते हैं।”

पूर्व विकेटकीपर बल्लेबाज ने इंग्लैंड के खिलाफ लॉर्ड्स टेस्ट में कॉलिन डी ग्रैंडहोम को कीवी प्लेइंग इलेवन में शामिल करने के फैसले पर भी सवाल उठाए।

उन्होंने कहा, “मैं इस मैच में न्यूजीलैंड के उतारे कॉम्बिनेशन से थोड़ा हैरान था। उन्होंने तीन तेज गेंदबाजों और एक स्पिनर के साथ कॉलिन डी ग्रैंडहोम को पांचवें गेंदबाज के तौर पर उतारा है। जिसकी वजह से उनका मध्यक्रम कमजोर लग रहा है।”