Playing in a World Cup is definitely on my bucket list: Nathan Lyon
Nathan Lyon (Getty Images)

मार्च 2012 में अपना अंतर्राष्ट्रीय डेब्यू करने के सात साल बाद भी ऑस्ट्रेलियाई स्पिन गेंदबाज नाथन लियोन को विश्व कप खेलने का मौका नहीं मिला है। टेस्ट टीम के अहम खिलाड़ी लियोन सीमित ओवर स्क्वाड में अपनी जगह आज तक पक्की नहीं कर पाए हैं। इसके बावजूद नाथन लियोन ऑस्ट्रेलिया के लिए विश्व कप खेलने का सपना देख रहे हैं।

भारत के खिलाफ वनडे सीरीज में खेल रहे नाथन लियोन ने तीसरे मैच से पहले कहा, “बतौर ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेटर आप हमेशा बड़े टूर्नामेंट्स में खेलना चाहते हैं और मुझे कभी विश्व कप खेलने का मौका नहीं मिला। ये ऐसी चीज है जो मैं करना चाहता हूं, निश्चित तौर पर करना चाहता हूं।”

ये भी पढ़ें: पाक के खिलाफ ODI सीरीज में स्मिथ-वार्नर को नहीं मिली जगह 

नाथन लियोन ने 2012 से अब तक ऑस्ट्रेलिया के लिए 18 वनडे मैच खेले हैं, जिसमें उन्होंने केवल 19 विकेट ही लिए हैं। टेस्ट क्रिकेट में कई कीर्तिमान हासिल कर चुके लियोन वनडे फॉर्मेट खेलना भी उतना ही पसंद करते हैं। उन्होंने कहा, “मैं सफेद गेंद से क्रिकेट खेलना काफी पसंद करता हूं और वापस रंगीन जर्सी पहनना भी पसंद है। मेरे लिए बात चुनौती का मजा लेने और सीमित ओवर फॉर्मेट में बेहतर होने की है। बात हर बार गेंदबाजी करते हुए कुछ सीखने की है। थोड़ा अतिरिक्त दबाव है लेकिन मैं उसे खुद पर नहीं ले रहा हूं। मैं केवल ऑस्ट्रेलिया टीम के लिए अपना सर्वश्रेष्ठ करने के बारे में सोच रहा हूं।”

ये भी पढ़ें: रांची में वनडे सीरीज को अपने नाम करना चाहेगी टीम इंडिया

उपमहाद्वीप की स्पिन की मददगार पिचों से दूर ज्यादातर समय ऑस्ट्रेलिया में गेंदबाजी करने वाले स्पिनर लियोन बाउंस को अपना सबसे बड़ा हथियार मानते हैं। उन्होंने कहा, “मेरा विश्वास है कि बाउंस मेरा सबसे बड़ा हथियार है। मैं किसके खिलाफ गेंदबाजी कर रहा हूं, उस हिसाब से अपनी गति, वैरिएशन और मानसिकता बदलने की क्षमता होने से, मैं केवल खेल को पढ़ने की कोशिश करता हूं, खेल में क्या होने वाला है और उस पल को नियंत्रित करना।”

लियोन ने आगे कहा, “बाउंस मेरे लिए अहम फैक्टर है, अगर मैं बैट के स्टिकर को हिट कर पाता हूं और उम्मीद करता हूं कि वो कैच हाथ में जाते हैं ना कि स्टैंड में। ये एक अच्छी चुनौती है और इसे लेकर मैं काफी उत्साहित हूं।”